शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बाढ़ से निपटने के लिए बनाएं प्रभावी कार्ययोजना

लखनऊ ब्यूरो Updated Sat, 20 Jul 2019 10:39 PM IST
बहराइच के कलेक्ट्रेट में आयोजित समीक्षा बैठक को संबोधित करतीं राज्यमंत्री व मौजूद कैबिनेट मंत्? - फोटो : BAHRAICH
बहराइच। जनपद में संभावित बाढ़ को देखते हुए बचाव की तैयारियों की समीक्षा के लिए कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक की गई। इसमें प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा व राज्यमंत्री बेसिक शिक्षा अनुपमा जायसवाल मौजूद रहीं। उन्होंने कहा कि बाढ़ से निपटने के लिए प्रभावी कार्ययोजना तैयार करें जिससे जन-धन की हानि कम से कम हो। आपदा व राहत के कार्यों में धन की कमी आड़े नहीं आयेगी।
विज्ञापन
उन्होंने जिले के अधिकारियों को निर्देश दिया कि बचाव एवं राहत कार्यों की कार्ययोजना तैयार करते समय छोटी से छोटी बातों पर भी ध्यान दें। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के जो भी संपर्क मार्ग हैं बाढ़ से पूर्व उनकी आवश्यक मरम्मत करवा लें। दोनों प्रतिनिधियों ने निर्देश दिया कि बाढ़ के दौरान वितरित होने वाली खाद्य सामग्री की गुणवत्ता उच्च मानकों की होनी चाहिए।
बाढ़ के दौरान नावों इत्यादि की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए यह भी देखा जाय कि इन पर क्षमता से अधिक लोग सवार न हो। सहकारिता मंत्री ने तटबंधों की सुरक्षा तथा बाढ़ व कटान से प्रभावित होने वाले ग्रामों की सुरक्षा के संबंध में की गयी तैयारियों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने जरवल कस्बे में सड़कों की आवश्यक मरम्मत कराने का भी निर्देश दिया।
वहीं राज्यमंत्री अनुपमा जायसवाल ने नगर में बारिश के पानी की निकासी के लिए प्रभावी कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया। सांसद अक्षयवर लाल ने कहा कि नेपाल से नदियों में आने वाले पानी के लिए प्रभावी कार्ययोजना तैयार कर लें। सांसद ने मिहींपुरवा क्षेत्र में कटान से प्रभावित होने वाले 06 ग्रामों के संबंध में की गयी कार्यवाही की जानकारी ली।
विधायक महसी सुरेश्वर सिंह ने स्थानीय नावों की मरम्मत कराकर उन्हें तैयार रखने, पशुओं के संरक्षण की व्यवस्था व जल भराव वाले स्थानों पर सीसी रोड व केसी ड्रेन का निर्माण कराने को कहा। इस मौके पर जिलाधिकारी शंभु कुमार ने बाढ़ पूर्व तैयारियों की जानकारी दी।
डीएम ने बताया कि संभावित बाढ़ से निपटने के लिए 48 बाढ़ चौकियां, 50 लंगर स्थल व 49 राहत वितरण केन्द्र का चयन करके प्रभारी नियुक्त कर दिये गये हैं। मौके पर विधायक नानपारा माधुरी वर्मा, सहकारिता मंत्री के प्रतिनिधि गौरव वर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सुरेश सिंह व सभी उप जिलाधिकारी व तहसीलदार मौजूद रहे।
विज्ञापन

Recommended

meeting

Spotlight

विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।