शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

यूपी: नहीं मिली एंबुलेंस तो पत्नी के शव को रिक्शे से खींचकर 30 किलोमीटर तक ले गया किसान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, प्रयागराज Updated Fri, 20 Sep 2019 02:00 AM IST
पत्नी के शव को रिक्शे पर ले जाता किसान - फोटो : Amar Ujala
उत्तर प्रदेश में शवों के लिए सरकारी एंबुलेंस या शव वाहनों की लचर व्यवस्था में फंसे किसान की सिसकियां गुरुवार को पूरे प्रयागराज में गूंज कर सिस्टम से सवाल करती रहीं, लेकिन किसी के कान पर जूं तक नहीं रेंगी। शहर भर में शवों को ढोने के लिए सरकारी एंबुलेंस या शव वाहनों की उपलब्धता नहीं है।
विज्ञापन
इस व्यवस्था में फंसा किसान गुरुवार को अपनी पत्नी के शव के साथ घंटों भटकता रहा, जगह-जगह गुहार लगाता रहा, लेकिन उसे कहीं से मदद नहीं मिली। मायूस होकर उसने अपने साथ भटक रहे बच्चों को किसी तरह बस से घर भेजा और फिर गरीबी और लाचारी में एसआरएन अस्पताल से रिक्शा ट्राली में पत्नी का शव रखकर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर शंकरगढ़ तक खींच कर ले गया।

शंकरगढ़ से आए कल्लू की पत्नी के सिर में करीब पांच दिन पहले चोट लग गई थी, जिसके बाद उसे एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गुरुवार को उपचार के दौरान पत्नी सोना की सांस रुक गई। पति कल्लू जब शव को घर ले जाने के साधन खोजने लगा तो उसे एंबुलेंस नहीं मिली। बताया गया कि शव वाहन भी उपलब्ध नहीं है।

बताया गया कि निजी एंबुलेंस चालक की फीस तीन हजार रुपये है, तो वह भटकने लगा। मजबूरी में वह रिक्शा ट्राली पर पत्नी का शव रखकर घर की ओर निकल पड़ा। रास्ते में उसकी हालत देखने वालों ने अफसोस जताया, लेकिन मदद को कोई आगे नहीं आया।

यह घटना जिम्मेदारों के लिए सबक बन सकती है, बशर्ते वे संवेदनशील बनें। सवाल है कि सौ से अधिक एंबुलेंस का बेड़ा शहर में है, लेकिन जरूरतमंद गरीबों के लिए शव वाहन की व्यवस्था नहीं है। इस संबंध में एसआरएन अस्पताल के एसआईसी डॉ. एके श्रीवास्तव ने अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि उनके पास एंबुलेंस की मांग लेकर कोई आया ही नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर कल्लू उनके पास आता तो वह शव ले जाने की व्यवस्था जरूर कराते।
विज्ञापन

Recommended

allahabad news prayagraj news srn srn hospital allahabad yogi sarkar bjp sarkar

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।