शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

सुबकते रहे शहीद मेजर के पिता, बोले- बेटी कैरा से किए वादे कौन पूरे करेगा केतन...

सचिन त्यागी, अमर उजाला, मेरठ Updated Tue, 18 Jun 2019 03:48 AM IST
1 of 6
केतन व उनकी पत्नी और बेटी - फोटो : अमर उजाला
मेरठ में इस परिवार के दर्द को बयां नहीं किया जा सकता। माता-पिता ने बेटा खो दिया। चंद साल पहले ही जीवन संगिनी बनी ईरा ने अपना सुहाग। पांच साल की बेटी कैरा तो अभी इस दर्द को समझ भी नहीं सकती है। केतन के पिता रविंद्र कुमार शर्मा शायद ही अब जिंदगी में कभी हंस पाएंगे। बीमार मां का क्या हाल होगा। मासूम के सवालों का जवाब ये मां क्या देगी जिसने अपना सब कुछ खो दिया है। शहीद मेजर केतन के परिवार को ताउम्र ये सवाल सालते रहेंगे। केतन की वो अंतिम बातें जिंदगी भर याद रहेंगी कि जो उन्होंने ऑपरेशन पर जाने के दौरान पिता और पत्नी से की थीं।
विज्ञापन

2 of 6
केतन के पिता ढांढस बंधाते विधायक - फोटो : अमर उजाला
पिता देर रात तक सबसे यही कहते रहे कि इसकी मां को अभी कुछ मत बताना। बीमार है। सह नहीं पाएगी। मायके गई केतन की पत्नी से भी फोन पर बस यही कहा कि आ जाओ। कुछ देर खामोश रहते तो कभी सुबकने लग जाते... बिलखकर बार-बार यही कहते कि पोती कैरा से किए गए वादे कौन पूरे करेगा केतन। तुम सबसे रोज हालचाल पूछते थे। अब कौन पूछेगा केतन।

3 of 6
केतन और उनकी पत्नी - फोटो : अमर उजाला
कंकरखेड़ा के श्रद्घापुरी निवासी रविंद्र कुमार शर्मा ने जिंदगी में काफी उतार-चढ़ाव देखे। मोदी रबर फैक्टरी बंद होने के बाद उन्होंने मेरठ में रहकर बेटे केतन और बेटी मेघा को अच्छे से पढ़ाया लिखाया। बेटे की इच्छा सेना में जाने की थी। अपनी मेहनत के दम पर केतन ने सेना में अफसर बनकर पिता का सीना गर्व से चौड़ा कर दिया। दिल्ली की ईरा से शादी होने के बाद घर में बेटी कैरा का जन्म हुआ तो खुशियां दोगुनी हो गईं। सब कुछ तो ठीकठाक चल रहा था। 27 मई को छुट्टी पर घर आए तो सबको वक्त दिया। मां-पिता के साथ ही रिश्तेदारों से भी मिले। बिटिया की नाराजगी उसकी चीजें दिलाकर पूरी की।

4 of 6
केतन के घर के बाहर आर्मी अफसर - फोटो : अमर उजाला
सबको खुश करके केतन जम्मू गए तो रोजाना फोन पर सबसे बातचीत का सिलसिला चलता रहा। रोजाना पत्नी, बेटी, मां, पिता से बात करके सबका हालचाल लेते थे। मां के बीमार रहने के कारण पिता से अधिकतर यही बात होती कि उनका ध्यान रखना। लेकिन सोमवार को आई इस मनहूस खबर ने सब कुछ उजाड़कर रख दिया। पिता रविंद्र कुमार ये समझ ही नहीं पा रहे हैं कि करें तो आखिर करें क्या? कैसे उसकी मां को जाकर बताएं कि तेरा लाल देश के लिए शहीद हो गया है। बहू ईरा का कैसे सामना करें। सुबकते हुए बस वह यही बड़बड़ाते रहे कि सबसे कहता था कि ध्यान रखना लेकिन खुद अपना ध्यान नहीं रखा। अब मां के बारे में कौन पूछेगा। बहू और पोती से किए वादे कौन पूरे करेगा।

5 of 6
विलाप करते परिजन - फोटो : अमर उजाला
फिर एक लाल...ये क्या हो गया
मेजर केतन के शहीद होने की खबर सोमवार रात तक मेरठ में सोशल साइट पर वायरल होने लगी। श्रद्घापुरी में भी जिसने सुना वो उनके घर पहुंच गया। आसपास के लोगों की जुबां पर बस एक ही बात थी कि चार महीने पहले 18 फरवरी को बसा टीकरी के अजय का तिरंगे में लिपटा पार्थिव शरीर आया था। अब मेजर केतन की खबर आ गई। फिर एक लाल मेरठ का शहीद हो गया।

6 of 6
शहीद के पिता से बात करते डीएम - फोटो : अमर उजाला
डीएम साहब, मैंने तो सब कुछ खो दिया 
बेटे की शहादत पर पिता रविंद्र शर्मा डीएम से बोले कि डीएम साहब, मैंने तो सब कुछ खो दिया। मेरा तो सब कुछ चला गया। अब बचा ही क्या है.. जो था वह भी देश की खातिर बलिदान हो गया। मुझे नहीं पता था कि यह दिन भी देखने को मिलेगा। तभी डीएम उन्हें गले से लगा लेते हैं।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।