शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बेटे-बहू की करतूतों से 'मैनेजमेंट गुरू' वृद्धाश्रम में रहने को मजबूर, लिख चुके हैं 12 किताबें

रंजना शर्मा, अमर उजाला, आगरा Updated Fri, 26 Apr 2019 04:49 PM IST
1 of 5
नीलम भाटिया और मुकेश भाटिया - फोटो : अमर उजाला
जिस शख्स ने प्रबंधन पर 12 किताबें लिखी हों और 20 से ज्यादा रिसर्च पेपर दिए हों, वो आज अपनी पत्नी संग वृद्धाश्रम में रहने के लिए मजबूर हैं। दिल्ली के मुकेश भाटिया की जिंदगी का प्रबंधन ऐसा बिगड़ा कि घर छोड़ना पड़ गया। उन्होंने देश ही नहीं, देश के बाहर दुबई में भी प्रबंधन का ज्ञान बांटा है। पत्नी नीलम भी एमबीए हैं।
विज्ञापन

2 of 5
नीलम भाटिया - फोटो : अमर उजाला
आगरा के रामलाल वृद्धाश्रम में रह रहे दिल्ली के चांदनी चौक निवासी मुकेश भाटिया बताते हैं कि बेटे ने धोखे से सारी जायदाद अपने नाम करा ली। इसके बाद उसका और बहू का व्यवहार इतना खराब हो गया कि वहां एक पल भी रहना मुश्किल था। नीलम कहती हैं, मैंने तो किसी तरह इसे किस्मत का लिखा मानकर खुद को संभाल लिया है, लेकिन ये (मुकेश ) सच को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं।

3 of 5
मुकेश भाटिया - फोटो : अमर उजाला
उन्हें लगता है कि उनके साथ ऐसा नहीं होना चाहिए था। लगे भी क्यों नहीं, क्या दौर बीता है उनकी जिंदगी का। जगह-जगह कॉलेज से डिमांड आती थी उनके लेक्चर की। एक-एक लेक्चर दो-दो घंटे का होता था। छात्र-छात्राओं को सिखाते थे, घर और जिंदगी का प्रबंधन कैसे करना चाहिए? लेकिन किस्मत का पहिया ऐसा घूमा कि हमारी जिंदगी का ही प्रबंधन बिगड़ गया। 

4 of 5
प्रतीकात्मक तस्वीर
मुकेश भाटिया कहते हैं कि 1980 में हम दोनों ने लव मैरिज की थी। तब से लेकर आज तक हम दोनों एक-दूसरे के साथ हर सुख-दुख में रहे हैं। मैंने कुल 12 किताबें लिखी हैं और मेरी सारी किताबें 250 से 300 पेज की हैं। इनमें पत्नी ने मदद की है। मुकेश भाटिया ने स्टेजिक मैनेजमेंट, बिजनेस कॉम्पनीकेशन, फैमिली बिजनेस मैनेजमेंट, प्रोफेशनल सेलिंग, रिटेल मैनेजमेंट, सप्लाई चेन मैनेजमेंट, इंटरनेट मार्केटिंग नाम से किताबें लिखी हैं।

5 of 5
रामलाल वृद्धाश्रम आगरा - फोटो : अमर उजाला
एक बार आश्रम की ओर से फोन किया गया तो बेटे का जवाब मिला कि अब उनका उनसे कोई संबंध नहीं हैं और दोबारा फोन मत करना। एक बेटी है जो फोन पर हालचाल लेती रहती है। वो पापा की दवाई के लिए पैसे भी भेजती है। मम्मी पापा के इस हाल में पहुंच जाने से बेटी को बहुत दुख है।
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।