शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

भूस्खलन होने से एक किमी तक बनी झील, गांव छोड़ भागे लोग, लाहौल-रोहतांग में बर्फबारी, सैलानी फंसे

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Mon, 19 Aug 2019 06:10 PM IST
1 of 16
- फोटो : अमर उजाला
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के नूरपुर की धन्नी पंचायत में भारी भूस्खलन हुआ है। जब्बर खड्ड का पानी रुक जाने से एक किलोमीटर तक के क्षेत्र में झील बन गई है। घरों को खतरा देख लोग पलायन करने लगे हैं। खेतों के रास्ते पानी का बहाव मोड़ने का प्रयास जारी है।
विज्ञापन

2 of 16
- फोटो : अमर उजाला
एनडीआरएफ, लोनिवि, होमगार्ड के जवान पानी का बहाव मोड़ने की कोशिश में जुटे हैं। फिलहाल निचले इलाकों में बाढ़ का खतरा टल गया है। लेकिन पडाड़ के दरकने का सिलसिला जारी है।

3 of 16
- फोटो : अमर उजाला
चार नेशनल हाईवे समेत 500 से अधिक सड़के अभी तक बंद हैं। कई क्षेत्रों में पानी-बिजली की सप्लाई ठप है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने आज भी बारिश के आसार जताए हैं।

4 of 16
- फोटो : अमर उजाला
हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि दो दिन हुई भारी बारिश और भूस्खलन के कारण 22 लोगों की जान गई है।  इस मानसून सीजन में अब तक कुल 43 लोग जान गंवा चुके हैं। अब तक 574 करोड़ रुपये के नुकसान का अनुमान है। 

5 of 16
- फोटो : अमर उजाला
हिमाचल प्रदेश में जारी मूसलाधार बारिश के कारण शिमला, चंबा, सोलन, सिरमौर और कुल्लू के सभी शैक्षणिक संस्थानों में सोमवार को अवकाश घोषित कर दिया गया है। इस संबंध में शिमला, चंबा, सोलन, कुल्लू और सिरमौर के उपायुक्तों ने आदेश जारी कर दिए हैं।

6 of 16
- फोटो : अमर उजाला
शिमला, सोलन, चंबा, कुल्लू और सिरमौर में सभी सरकारी, निजी और कॉन्वेंट स्कूल, यूनिवर्सिटी, कॉलेज, आईटीआई, पॉलीटेक्नीक और आंगनबाड़ी केंद्र बंद रहेंगे। वहीं लोगों को भी नदी नालों के किनारे न जाने की हिदायत दी गई है।  

7 of 16
- फोटो : अमर उजाला
रोहतांग समेत ऊंची चोटियों पर ताजा बर्फबारी होने से प्रदेश में तापमान लुढ़क गया है। 24 अगस्त तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब बना रहने का है पूर्वानुमान है। बिजली परियोजनाओं में आज उत्पादन शुरू हो गया है।

8 of 16
- फोटो : अमर उजाला
वहीं प्रदेश के कुल्लू जिले में आज फिर मूसलाधार बारिश हो रही है। जिला कुल्लू में अभी तक 100 से अधिक सड़कें बंद हैं। दो नेशनल हाईवे, 50 से ज्यादा आईपीएच की पेयजल स्कीमें प्रभावित हैं। 23 करोड़ की बनी कुल्लू शहर की स्कीम भी बंद हो गई है।

9 of 16
- फोटो : अमर उजाला
हमीरपुर जिले के लोअर हड़ेटा स्कूल का एक छात्र और तीन अध्यापक खड्ड पार करते समय पानी के तेज बहाव में काफी दूर तक बह गए। स्थानीय लोगों ने उन्हें किसी तरह बचाया। 11वीं कक्षा के छात्र अनुराग को बचाते हुए स्कूल प्रधानाचार्य सुनील शर्मा, शारीरिक शिक्षा अध्यापक पवन कुमार और पूर्व सैनिक सुरेश कुमार तेज बहाव में बह गए।

10 of 16
- फोटो : अमर उजाला
इन्हें कड़ी मशक्कत के बाद पानी से बाहर निकाला गया। तीनों को उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गलोड़ में भर्ती करवाया गया है।

11 of 16
- फोटो : अमर उजाला
बर्फबारी होने से लाहौल स्पीति जिल के काजा के समीप 14,100 फीट की ऊंचाई पर स्थित चंद्रताल लेक पर 150 विदेशी सैलानी फंस गए। बीआरओ की टीम ने इन सभी को रेस्क्यू कर कोकसर पहुंचा दिया है।

12 of 16
- फोटो : अमर उजाला
जानकारी के मुताबिक एक सैलानी की छतरू में मौत हो गई है। नुल्हा नाला में भूस्खलन होने से स्पीति लेह मार्ग पर करीब 350 वाहन फंसे हैं। हमीरपुर में भारी बारिश से एक गौशाला गिर गई है।

13 of 16
- फोटो : अमर उजाला
ब्यास के साथ अन्य नदी नाले उफान पर हैं। चंबा पठानकोट नेशनल हाईवे बाथरी के समीप पेड़ गिरने से बंद हो गया है। चंबा के मणिमहेश मार्ग में दूनाली के पास रास्ता बह गया है। लोनिवि वैकल्पिक मार्ग बना रहा है।

14 of 16
- फोटो : अमर उजाला
जनजातीय जिला किन्नौर में पूर्वणी झूला के पास बाधित नेशनल हाईवे-पांच दूसरे दिन भी बहाल नहीं हो पाया है। कुल्लू, बंजार और जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में बारिश के बाद ओएफसी कट जाने से बीएसएनएल की सेवाएं ठप पड़ी हैं। ऊना जिले में दौलतपुर के रायपुर व थानाकलां के डोल में मकान गिरे गए। हादसे में परिवार के सदस्य बाल-बाल बच गए। स्वां नदी में उफान से बाढ़ का खतरा बना हुआ है।

15 of 16
- फोटो : अमर उजाला
हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले में फाहल-टिप्पर स्थित साईं कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड फार्मेसी बाढ़ में बह गया। चंद पलों में पूरा भवन धराशायी होकर बह गया।

16 of 16
- फोटो : अमर उजाला
पिछले साल से कॉलेज में कक्षाएं बंद हैं। भारी बारिश से हमीरपुर जिले की 29 सड़कें बंद हैं।
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।