शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बीडीएस छात्रा की हत्या का खुला राज, व्हॉट्सएप पर चैटिंग कर दोस्त पहुंचा घर, रात भर रहा साथ

न्यूज डेस्क/अमर उजाला, लखनऊ Updated Thu, 13 Jun 2019 04:35 PM IST
1 of 7
प्रिया सिंह (फाइल फोटो) - फोटो : amar ujala
लखनऊ में कैंट इलाके में बीडीएस छात्रा प्रिया सिंह को उसके दोस्त प्रकाश चंद्र आर्य ने मौत के घाट उतारा था। प्रकाश चंद्र आर्य सचिवालय में चतुथ श्रेणी कर्मचारी था। दोनों में सोमवार देर शाम व्हॉट्सएप पर चैटिंग हुई और मंगलवार सुबह तक साथ रहे। इसके बाद प्रकाश ने प्रिया के सिर पर डंडे से वार किया और मुंह दबाकर हत्या की। खुदकुशी का रूप देने के इरादे से पंखे से फंदा कसा, लेकिन प्रिया को लटकाने में नाकाम रहा। शव को तख्त पर लिटाया और कमरा बाहर से बंद करके फरार हो गया। हड़बड़ाहट में प्रकाश के दोनों मोबाइल फोन प्रिया के कमरे में ही छूट गए थे। मालूम हो लखनऊ में कैंट क्षेत्र में बीडीएस की छात्रा की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। बाहर से बंद कमरे में मंगलवार सुबह तख्त पर उसका शव मिला। छत के पंखे से दुपट्टे का फंदा कसा था और उसके गले पर निशान भी हैं। चार दिन से घर में अकेली छात्रा का हाल पूछने गए फूफा ने नजारा देखकर पुलिस को सूचना दी थी।
विज्ञापन

2 of 7
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : अमर उजाला
क्षेत्राधिकारी तनु उपाध्याय ने बताया कि विद्यानगर मलाक रोड निलमथा निवासी प्रिया सिंह (25) की संदिग्ध हालात में मौत की पड़ताल में बुधवार को खास जानकारी हाथ लगी। पोस्टमार्टम में डॉक्टरों ने सिर के बाएं हिस्से पर ठोस वस्तु से वार के कारण मौत की पुष्टि की। इसके अलावा प्रिया का मुंह भी दबाया गया था। पड़ताल में खुलासा हुआ कि कमरे में मिले पांच मोबाइल फोन में से दो दुर्गापुरी कॉलोनी निवासी प्रकाश चंद्र आर्या के थे। कॉल डिटेल खंगालने पर प्रिया व प्रकाश के बीच चैटिंग की पुष्टि हुई। प्रकाश ने व्हॉट्सएप पर मेसेज करके पूछा कि कहां हो और प्रिया ने उसे जवाब दिया था। प्रकाश चंद्र का लोकेशन सोमवार रात आठ बजे से मंगलवार सुबह 7:15 बजे तक प्रिया के घर पर था। माना जा रहा है कि दोनों लोग रातभर साथ में रहे और सुबह किसी बात को लेकर विवाद में प्रकाश चंद्र ने मोबाइल फोन तोड़ा। प्रिया की हत्या की। खुदकुशी का रूप देने के इरादे से पंखे से फंदा कसा। प्रिया को फंदे पर लटकाने में नाकाम रहने पर उसे तख्त पर लिटाकर फरार हो गया।

3 of 7
प्रतीकात्मक तस्वीर
पिता ने दर्ज कराई नामजद रिपोर्ट
प्रभारी निरीक्षक रंजना सचान ने बताया कि बेटी की मौत की खबर पर बिहार से पहुंचे प्रकाश कुमार सिंह ने प्रकाश चंद्र आर्या पर हत्या का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई। एक कंपनी मेें सिविल इंजीनियर प्रकाश कुमार सिंह ने कहा कि बेटी की मौत से पत्नी रेनू की हालत काफी खराब हो गई थी। होश आने पर बताया कि प्रिया ने प्रकाश चंद्र नामक युवक द्वारा रास्ते में छेड़खानी की शिकायत की थी। उन्होंने सामाजिक प्रतिष्ठा बचाने के लिए प्रिया को खुद बचकर चलने की सलाह दी थी।

4 of 7
प्रतीकात्मक तस्वीर
हत्या आरोपी की गुमशुदगी
प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि विद्यानगर निवासी प्रिया के फूफा संजय कुमार की तरफ से बुधवार दोपहर 12:58 बजे सूचना दर्ज करके पड़ताल शुरू की गई थी। इस बीच शाम 7:29 बजे प्रकाश चंद्र आर्या के परिवारीजन की तहरीर पर गुमशुदगी दर्ज की गई। इसमें कहा गया कि प्रकाश चंद्र मंगलवार देर शाम घर से निकला था। रातभर न लौटने से परेशान परिवारीजन ने तलाश शुरू की। कुछ पता न चलने पर पुलिस को सूचना दी। चंद घंटे बाद इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से पता चला कि प्रिया के घर से मिले पांच मोबाइल फोन में दो प्रकाश चंद्र आर्या के थे।

5 of 7
प्रतीकात्मक तस्वीर
दिल्ली के एटीएम से निकाली रकम
प्रिया की हत्या में प्रकाश चंद्र आर्या के नामजद होते ही पुलिस टीम ने उसके परिवारीजनों से तहकीकात की। दोनों मोबाइल फोन प्रिया के घर पर छूट जाने के कारण उसका लोकेशन ट्रेस करने में दिक्कत आ रही थी। पुलिस ने प्रकाश के बैंक खाते के बारे में छानबीन की। उसके द्वारा दिल्ली के एक एटीएम बूथ से रुपये निकाले जाने की पुष्टि हुई। इस पर पुलिस की एक टीम प्रकाश चंद्र की तलाश में दिल्ली रवाना की गई है। परिवार के लोगों पर भी नजर है।

 

6 of 7
प्रतीकात्मक फोटो
विसरा-स्लाइड सुरक्षित
डॉक्टरों के पैनल ने प्रिया के शव का पोस्टमार्टम किया। सिर पर बाएं तरफ ठोस वस्तु से वार के कारण कोमा में जाने और मुंह दबाने की पुष्टि की। आमाशय में कम मात्रा में पदार्थ था। नशा या विषाक्त पदार्थ की आशंका के चलते विसरा सुरक्षित किया। यौन अपराध की जाहिरा तौर पर पुष्टि न होने पर स्लाइड व स्वाब परीक्षण के लिए सुरक्षित किया गया है।

7 of 7
प्रतीकात्मक तस्वीर
हत्थे चढ़ने पर खुलेगा फंदे का राज
क्षेत्राधिकारी ने बताया कि आरोपी प्रकाश चंद्र आर्या के हत्थे चढ़ने पर प्रिया की हत्या की वजह और पंखे से कसे दुपट्टे-गमछे के फंदे का राज उजागर होगा। कॉल डिटेल व चैटिंग खंगालने पर दोनों में दोस्ती और सोमवार शाम आठ बजे से मंगलवार सुबह 7:15 बजे तक साथ रहने की पुष्टि हुई। पड़ोस में रहने वाले प्रिया के फूफा संजय कुमार ने मंगलवार सुबह सात बजे के आसपास उसे कॉल की थी। अंदेशा है कि उस दौरान प्रकाश चंद्र प्रिया के कमरे में पंखे से फंदा कस रहा होगा। कॉल रिसीव न होने पर फूफा के आ जाने के डर से आननफानन में कमरा बाहर से बंद करके फरार हुआ। प्रिया की हत्या के बाद प्रकाश चंद्र द्वारा खुदकुशी के इरादे से फंदा कसने के सवाल पर क्षेत्राधिकारी ने कहा कि उससे पूछताछ में स्थिति साफ होगी। 
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।