शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

लखनऊः खूबसूरत यादें संजोए है कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज, जावेद अख्तर का है खास नाता

न्यूज डेस्क/अमर उजाला, लखनऊ Updated Mon, 22 Jul 2019 05:26 PM IST
1 of 6
कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज - फोटो : अमर उजाला
एक दौर था जब लोग मुल्क के किसी भी हिस्से में इल्म और तालीम की बात करते थे तो लखनऊ का जिक्र जरूर आता था। इसमें कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज भी शुमार था। बेहद हसीन और खुशगवार अतीत वाला ये कॉलेज आज शहर के प्रमुख स्कूलों में से एक है। अमर उजाला ने कॉलेज प्रिंसिपल, कुछ इतिहासकारों से बात कर जाना कॉलेज के वैभवशाली इतिहास के बारे में, पेश है रिपोर्ट...
विज्ञापन

2 of 6
कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज - फोटो : अमर उजाला
कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज हिंदुस्तान के सबसे पुराने स्कूलों में होता है। इस स्कूल को सर ऑकलैंड कॉल्विन ने स्थापित किया, जो उस वक्त अवध और आगरा के उपराज्यपाल थे। कॉलेज के पूर्व छात्र और वर्तमान प्रिंसिपल अनूप राज बताते हैं कि 1889 में इस स्कूल की नींव रखी गई। वास्तव में विद्यालय वर्ष 1892 में प्रारंभ हुआ। विद्यालय को बनाने का मकसद अंग्रेजों, रजवाड़ों और ताल्लुकेदारों के बच्चों को तालीम देना था। इतिहासकार योगेश प्रवीन बताते हैं कि उस दौर में इसमें प्रवेश की सबसे पहली और प्रमुख शर्त थी कि एडमिशन लेने वाला बच्चा राजघराने का होना चाहिए।

3 of 6
कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज - फोटो : अमर उजाला
इसमें पढ़ने वाले बच्चों की संख्या भी बहुत ज्यादा नहीं सिर्फ 50 के आसपास ही रहती थी। जिस वर्ष इस की छात्र संख्या ने 100 का आंकड़ा छुआ उस दिन मारे खुशी के विद्यालय में एक दिन का अवकाश घोषित किया गया। राजघराने का पाल्य होने की शर्त को 1933 में हटा लिया गया। 1945 में कॉलेज में इंटरमीडिएट तक की शिक्षा आरंभ की गई। 1965 में इस विद्यालय को भारत सरकार द्वारा देश के प्रमुख विद्यालयों के रूप में चिह्नित करते हुए मेधावी छात्रों को शिक्षित करने के लिए अधिसूचित किया गया।

4 of 6
कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज - फोटो : अमर उजाला
कॉलेज के बारे में
कॉलेज आंशिक रूप से आवासीय है। इसमें दो बोर्डिंग हाउस अवध और अंजुमन हैं, जिसमें 150 छात्र बैठ सकते हैं। वर्तमान में कॉलेज इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा नई दिल्ली से संबद्ध है। दूसरे स्कूलों की तरह यहां भी हाउस सिस्टम है। स्कूल में पांच हाउस अजंता, नालंदा, सांची, तक्षशिला और उज्जैन हैं। इस स्कूल में वार्षिक खेल दिवस और पुराने छात्रों के मिलने के लिए एक दिन तय होता है, जो दिसंबर में ‘दरबार डे’ के नाम से मनाया जाता है।

5 of 6
जावेद अख़्तर
जावेद अख्तर का नाता
लखनऊ को अपने दिल में समेटे फिल्मी जगत के गीतकार, लेखक जावेद अख्तर अपनी आत्मकथा में इस कॉलेज का जिक्र करते हैं। वे लिखते हैं ‘मेरा दाखिला लखनऊ के मशहूर स्कूल कॉल्विन ताल्लुकेदार में छठीं क्लास में करा दिया जाता है। पहले यहां सिर्फ ताल्लुकेदारों के बेटे पढ़ सकते थे अब मेरे जैसे कमजातों को भी दाखिला मिल जाता है। अब भी बहुत महंगा स्कूल है, मेरी फीस 17 रुपये महीना है। मेरी क्लास में कई बच्चे घड़ी बांधते हैं। वो सब बहुत अमीर घरों के हैं। उनके पास अच्छे-अच्छे स्वेटर हैं। एक के पास फाउंटेन पेन भी है। ये बच्चे इंटरवल में स्कूल की कैंटीन में आठ आने की चॉकलेट खरीदते हैं। अब मुझे भगवती की चाट अच्छी नहीं लगती। कल क्लास में राकेश कह रहा था कि उसके डैडी ने कहा है कि उसे पढ़ने के लिए इंग्लैंड भेजेंगे। कल मेरे नाना कह रहे थे, अरे कमबख्त! मैट्रिक पास कर ले तो किसी डाकखाने में मोहर लगाने की नौकरी तो मिल जाएगी। इस उम्र में जब बच्चे इंजन ड्राइवर बनने का ख्वाब देखते हैं मैंने फैसला कर लिया कि बड़ा होकर अमीर बनूंगा।

6 of 6
कॉल्विन ताल्लुकेदार कॉलेज - फोटो : अमर उजाला
कुछ पुराने छात्र
जावेद अख्तर, रजा हुसैन (भूगर्भवेत्ता), असित देसाई (वैमानिकी प्रमुख बंगलूरू), अशोक कुमार (बोइंग विमान के डिजाइनकर्ता), बाबा सहगल (प्रसिद्ध रैप गायक) राजनेताओं में राजा दिनेश सिंह, राजा आनंद सिंह, धर्मेंद्र यादव, अखिलेश दास, अजीत सिंह, अवधेश सिंह, अमरनाथ वर्मा, जीतेंद्र प्रसाद, अरुण नेहरू, प्रशासनिक अधिकारियों में आनंदी नाथ सहगल, राजीव रतन शाह, प्रदीप शुक्ला, संजय अग्रवाल, अतुल कुमार गुप्ता, जफर इब्राहिम, अनिल स्वरूप, अमरनाथ राय, आफताब अली व एके पुरी।
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।