शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

तेजस की सुरक्षा में लापरवाही पड़ सकती है भारी, चोरी हुआ सामान तो रेलवे को लगेगा बड़ा झटका

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Updated Fri, 19 Jul 2019 05:29 PM IST
1 of 5
तेजस एक्सप्रेस - फोटो : amar ujala
देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस की सुरक्षा महज तीन आरपीएफ सिपाहियों के भरोसे हैं। कुल 19 बोगियों वाली ट्रेन की सुरक्षा में इनकी ड्यूटी तीन शिफ्टों में लगाई जा रही है। इससे ट्रेन की सुरक्षा को खतरा है। यह स्थिति तब है, जब बोगियों की कीमत तकरीबन 48 करोड़ रुपये है। बता दें कि जब डबलडेकर एक्सप्रेस लखनऊ आई थी तो उसके रैक की सुरक्षा में करीब दर्जनभर सिपाहियों की ड्यूटी लगी थी।
विज्ञापन

2 of 5
तेजस एक्सप्रेस - फोटो : amar ujala
सेमी हाईस्पीड ट्रेन तेजस का रैक गोमतीनगर रेलवे स्टेशन कीन्यू वॉशिंग पिट पर खड़ा किया गया है। ट्रेन की सुरक्षा के लिए 24 घंटे में तीन सिपाहियों की ड्यूटी तीन शिफ्टों में लगती है। एक शिफ्ट में सिर्फ एक सिपाही के भरोसे पूरी ट्रेन की सुरक्षा चुनौतीपूर्ण है। आरपीएफ की मानें तो ट्रेन न्यू वॉशिंग पिट पर खड़ी है। उसके एक ओर स्कूल है, जहां से बच्चे छुट्टी में ट्रैक तक आ जाते हैं।

3 of 5
तेजस एक्सप्रेस - फोटो : amar ujala
वहीं इलाके में शरारती तत्व व चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले भी सक्रिय हैं। ऐसे में यदि तेजस एक्सप्रेस की बोगियां से सामान चोरी जाता है या शरारती तत्व कांच तोड़ देते हैं तो रेलवे को बड़ा नुकसान उठाना होगा। वॉशिंग पिट पर जो रैक खड़ा है, उसमें कुल 19 बोगियां हैं। इसमें तीन जनरेटर यान, तीन फर्स्ट क्लास चेयरकार व 13 चेयरकार के कोच हैं, जो बेहद महंगे हैं। बोगियां एलएचबी हैं। एक बोगी की कीमत सवा दो से ढाई करोड़ रुपये के आसपास है। ऐसे में जब तक ट्रेन का संचालन शुरू नहीं होता, उसकी सुरक्षा में लापरवाही रेलवे को भारी पड़ सकती है।

4 of 5
तेजस एक्सप्रेस - फोटो : amar ujala
चोरों ने बिगाड़ दी थी डबल डेकर की हालत
तेजस एक्सप्रेस अत्याधुनिक ट्रेन है। इसमें काफी कीमती उपकरण लगे होने से चोरी की आशंका है। क्योंकि जब डबलडेकर की बोगियां गोमतीनगर स्टेशन पर खड़ी थीं तो उससे भी सामान चोरी हो रहा था और ट्रेन की हालत खराब कर दी गई थी।

5 of 5
तेजस एक्सप्रेस - फोटो : amar ujala
ऐसा तब हुआ जबकि ट्रेन की सुरक्षा में एक दर्जन सिपाही लगे थे। ट्रेन में कॉपर, एल्युमिनियम आदि का सामान लगा है। तेजस एक्सप्रेस को स्टेशन से एक किलोमीटर दूर बनी वॉशिंग पिट पर खड़ा किया गया है। ऐसे में सुरक्षा के इंतजाम नाकाफी हैं।

 
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।