शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

कैंसर से जीती जंग पर बदमाशों ने नहीं छोड़ा, हत्या कर कार लूटी और शव गोमती में फेंका

न्यूज डेस्क/अमर उजाला, लखनऊ Updated Sun, 21 Jul 2019 12:33 AM IST
1 of 6
मुकेश पाल (फाइल फोटो), ग्रामीणों ने किया थाने का घेराव - फोटो : अमर उजाला
लखनऊ में गोसाईंगंज के सिटकिहा कला गांव निवासी ओला कैब चालक मुकेश पाल (28) की गला दबाकर हत्या के बाद कार लूट ली गई। बदमाश उसका शव सीतापुर के संदाना गांव के पास गोमती नदी में फेंककर भाग निकले। उधर, मुकेश के घर न पहुंचने से परेशान परिवारीजनों ने खोजबीन की तो शव मिलने की सूचना से कोहराम मच गया। शुक्रवार दोपहर परिवारीजनों के साथ करीब 500 ग्रामीण शव लेकर गोसाईंगंज थाने पहुंचे और धरना-प्रदर्शन कर हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग की। पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें शांत किया।
विज्ञापन

2 of 6
टैक्सी चालक का शव रखकर ग्रामीणों ने किया थाने का घेराव - फोटो : अमर उजाला
इंस्पेक्टर विजय कुमार सिंह ने बताया कि मुकेश पाल के पास स्विफ्ट कार थी, जिसे वह ओला कंपनी के लिए चलाता था। बुधवार सुबह करीब दस बजे वह घर से कार लेकर निकला था। रात 10.30 बजे छोटे भाई अनुज ने फोन करके घर आने के बारे में पूछा। मुकेश ने कहा कि तुम लोग खाना खाकर सो जाओ। उसे अभी डेढ़ घंटे लगेंगे। रात 12 बजे तक मुकेश नहीं आया तो अनुज ने फिर कॉल की तो उसके चारों मोबाइल नंबर स्विच ऑफ मिले। उसके करीबियों से संपर्क करने पर भी कुछ पता नहीं चला। बृहस्पतिवार सुबह मुकेश की खोजबीन शुरू हुई। अनुज का कहना है कि वह ओला कंपनी के ऑफिस गया तो मुकेश की अंतिम लोकेशन मड़ियांव के छठामील में मिली। कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि मुकेश को बुधवार रात 10.25 बजे छठामील के पास ही एक बुकिंग दी गई थी। हालांकि, 20 मिनट बाद ही ग्राहक की तरफ से बुकिंग निरस्त करा दी गई थी।

3 of 6
टैक्सी चालक का शव रखकर ग्रामीणों ने किया थाने का घेराव - फोटो : अमर उजाला
परिवारीजन खोजबीन करते हुए इटौंजा टोल प्लाजा पहुंचे तो वहां मुकेश की कार रात 11.49 बजे टोल क्रॉस करते और करीब पौने दो घंटे बाद 1.33 बजे वापस आते दिखी। टोल प्लाजा के कर्मचारियों ने बताया कि उक्त कार के चालक ने आने-जाने की पर्ची कटवाई थी। इसके बाद अनुज ने गोसाईंगंज थाने में मुकेश की गुमशुदगी का केस दर्ज कराया। परिवारीजन मुकेश की तलाश कर ही रहे थे कि सीतापुर के सिधौली थाना में तैनात एक रिश्तेदार ने संदाना गांव के पास नदी में किसी युवक का शव मिलने की सूचना दी। रिश्तेदार का कहना था कि मृतक का हुलिया मुकेश जैसा ही है। अनुज ने व्हाट्सएप पर फोटो मंगाया तो शव मुकेश का ही निकला। रोते-पीटते परिवारीजन सीतापुर पहुंचे और पोस्टमार्टम के बाद शव लेकर गोसाईंगंज थाने पहुंचे। परिवारीजनों के साथ करीब 500 लोग थे। थाना पर शव रखकर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया। गोसाईंगंज पुलिस ने गुमशुदगी को हत्या व लूट की धारा में बदल दिया है।

4 of 6
मुकेश पाल (फाइल फोटो) - फोटो : अमर उजाला
कैंसर से जंग जीतकर चला रहा था ओला कैब
मुकेश पाल के परिवारीजनों ने बताया कि उसे कैंसर था। कच्ची गृहस्थी में ऐसी खतरनाक बीमारी से लोग टूट जाते हैं, लेकिन मुकेश ने कैंसर से लड़ाई लड़ी। उसने डटकर इलाज कराया और परहेज किया। हालांकि, इस दौरान वह आर्थिक रूप से टूट गया। ठीक होने के बाद ही उसने लोन लेकर कार खरीदी दी थी। मुकेश अपने माता-पिता का सबसे बड़ा बेटा था। उसके पिता शिवराज ने बताया कि वही परिवार को संभालता था और घर चलाता था। उसकी मौत की खबर सुनते ही मां राजरती व पत्नी रेखा बेहोश होकर गिर पड़ीं। शिवराज ने बताया कि मुकेश के अलावा उनके दो बेटे आशीष व अनुज हैं। आशीष ने इसी वर्ष इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की है और अनुज अभी पढ़ रहा है। मुकेश के साढ़े चार साल का बेटा अर्पित और तीन साल की बेटी लाडो है।

5 of 6
टैक्सी चालक का शव रखकर ग्रामीणों ने किया थाने का घेराव - फोटो : अमर उजाला
बेटे के दिल में है छेद, कैसे होगा इलाज
अनुज ने बताया कि भतीजे अर्पित के दिल में छेद है। मुकेश की मौत के बाद परिवारीजनों को उसके इलाज की चिंता खाए जा रही है। पत्नी रेखा ने कहा कि इलाज में काफी खर्चा आएगा। अब घरेलू खर्चे, बच्चों की पढ़ाई के साथ ही बेटे के उपचार के लिए कहां से इंतजाम होगा? सब इसी को लेकर परेशान हैं। हालांकि, एसडीएम सूर्यकांत त्रिपाठी ने आयुष्मान योजना के तहत अर्पित का उपचार कराने का आश्वासन दिया है।

 

6 of 6
टैक्सी चालक का शव रखकर ग्रामीणों ने किया थाने का घेराव - फोटो : अमर उजाला
पट्टा, पारिवारिक लाभ योजना, फीस माफी समेत अन्य सुविधाएं मिलेंगी
मुकेश के परिवारीजनों ने 50 लाख रुपये मुआवजा, पत्नी को सरकारी नौकरी, ओला कंपनी के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई और हत्यारों की गिरफ्तारी समेत अन्य मांगे रखीं। एसडीएम ने मुकेश के ग्राम प्रधान से परिवारीजनों के नाम पर एक बीघा जमीन का पट्टा करने, परिवारीजनों को पारिवारिक लाभ योजना, आयुष्मान योजना, बच्चों की फीस माफ कराने, सरकारी आवास दिलाने और सर्वहित बीमा लाभ योजना के तहत पांच लाख रुपये की राशि दिलाने का आश्वासन दिया है।
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।