शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

कमलेश तिवारी हत्याकांड में सबसे बड़ा खुलासा, तीन सालों से रची जा रही थी कत्ल की साजिश

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Updated Wed, 23 Oct 2019 09:01 AM IST
1 of 5
कमलेश तिवारी की हत्या - फोटो : amar ujala
हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी के कत्ल की साजिश का ताना बाना तीन वर्षों से बुना जा रहा था। साजिश में शामिल आरोपियों ने वारदात को अंजाम देने के लिए उसके हर पहलू पर कई बार गौर किया। गुजरात से शुरू हुई साजिश में शामिल लोगों को एक-एक कर जोड़ा गया।
विज्ञापन

2 of 5
कमलेश तिवारी हत्याकांड। - फोटो : amar ujala
मामले की जांच से जुड़ी एजेंसियों के अधिकारी इस जानकारी से अचंभे में हैं कि साजिश रचने वालों ने न सिर्फ वारदात को अंजाम देने के तरीके बल्कि मौके से फरार होने और इस पूरे मामले में हर कदम पर जरूरी मदद हासिल करने के लिए भी बिसात बिछाई हुई थी। कत्ल को अंजाम देने वाले किन-किन रास्तों से भाग सकते हैं और कहां किससे क्या मदद ली जानी है सब पहले ही तय कर लिया गया था।

3 of 5
गुजरात में एटीएस की गिरफ्त में कमलेश तिवारी हत्याकांड के मुख्य आरोपी - फोटो : अमर उजाला
अभी तक की पड़ताल में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि कमलेश तिवारी के एक बयान के बाद से ही उनके कत्ल का परवाना जारी कर दिया गया था। गुजरात एटीएस ने भी आईएसआईएस की विचारधारा से जुड़े जिन दो लोगों को गिरफ्तार किया था उन्होंने भी इस बात को कबूला था।
 

4 of 5
कमलेश तिवारी की मां और पत्नी - फोटो : ANI
अब हत्याकांड की साजिश में शामिल फैजान, मौलाना मोहसिन शेख व रशीद पठान के गुजरात से पकड़े जाने और सैयद आसिम के नागपुर से गिरफ्तार किए जाने के बाद जो जानकारी सामने आई है उससे यह साबित हो गया है कि साजिश को अमली जामा तब पहनाया जाना शुरू हुआ जब अशफाक ने रोहित सोलंकी के नाम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर कमलेश तिवारी को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी।

5 of 5
कमलेश तिवारी हत्याकांड - फोटो : अमर उजाला
जांच एजेंसियों के अनुसार पूछताछ में सामने आया है कि कत्ल करने के लिए अशफाक और मोईनुद्दीन का चयन करने के बाद उन्हें ताकीद की गई थी कि वे कमलेश तिवारी की मौत सुनिश्चित करने के बाद ही मौके से हटें। यही वजह थी कि हत्यारों ने कमलेश पर गोली भी चलाई, चाकू से कई बार वार कर गला भी रेत दिया था।
 
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।