बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

शहर चुनें

वैज्ञानिकों का दावा: सितंबर-अक्तूबर तक आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, ये तीन सावधानियां हैं जरूरी

हेल्थ डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 23 Jun 2021 09:17 AM IST
विज्ञापन
1 of 4
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : पीटीआई
कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमण के मामले अब काफी हद तक कम हो गए हैं। बीते मंगलवार को 50 हजार से अधिक नए मामले दर्ज किए गए थे, जबकि उससे एक दिन पहले इससे भी कम मामले थे। इस बीच तीसरी लहर का खतरा भी मंडराने लगा है। आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों का दावा है कि अगर सावधानी नहीं बरती गई तो सितंबर-अक्तूबर तक देश में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. राजेश रंजन और प्रो. महेंद्र वर्मा ने गणितीय मॉडल के आधार पर दूसरी लहर के आंकड़ों, समय, मापदंडों आदि बिंदुओं पर विश्लेषण कर यह दावा किया है। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगस्त से ही स्थिति खराब होनी शुरू हो जाएगी और अक्तूबर में तीसरी लहर के दौरान रोजाना तीन लाख तक संक्रमण के मामले आने की उम्मीद है। ऐसे में कुछ सावधानियां बरतनी बेहद ही जरूरी हैं, जिससे संभावित लहर के खतरों को कम किया जा सके। आइए जानते हैं...
विज्ञापन

2 of 4
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : iStock
मास्क पहनें 
  • वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अगर लोगों ने मास्क लगाने जैसे नियम का पालन करना छोड़ा तो कोरोना की लहर जल्द ही आएगी, लेकिन अगर लोग कोविड नियमों का पालन बेहतर ढंग से करेंगे तो लहर का पीक उतनी ही देर से आएगा। उनका कहना है कि सावधानी नहीं बरती गई तो तीसरी लहर का पीक अक्तूबर तक आ सकता है।

3 of 4
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : Pixabay
सुरक्षित शारीरिक दूरी अपनाएं 
  • कोरोना से बचने के लिए सुरक्षित शारीरिक दूरी अपनाना अति आवश्यक है। वैज्ञानिकों ने इस नियम का कड़ाई से पालन करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि पहली लहर के बाद जनवरी में जिस तरह से इस नियम को नजरअंदाज कर दिया गया था, अगर जुलाई में भी अनलॉक के बाद वैसा ही हुआ, तो हालात बेहद ही खतरनाक होंगे। 
विज्ञापन

4 of 4
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : पीटीआई
टीकाकरण है जरूरी 
  • वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर अभी से मास्क और सुरक्षित शारीरिक दूरी जैसी सावधानियां बरती गईं और देश में टीकाकरण का काम तेजी से चलता रहा तो तीसरी लहर के आने में देरी हो सकती है और स्थिति अधिक भयावह भी नहीं होगी। अगर लोग वैक्सीन लगवाते हैं तो तीसरी लहर का पीक नवंबर में आ सकता है। प्रो. राजेश रंजन कहते हैं कि ऐसे में लोगों के पास करीब चार महीने का मौका है।  
स्रोत और संदर्भ:   
COVID-19's third wave peak expected around September-October: IIT Kanpur study 
https://www.iitk.ac.in/new/media-coverage 

अस्वीकरण नोट: यह लेख आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए विश्लेषण के आधार पर तैयार किया गया है। लेख में शामिल सूचना व तथ्य आपकी जागरूकता और जानकारी बढ़ाने के लिए साझा किए गए हैं। किसी भी तरह की बीमारी के लक्षण हों अथवा आप किसी रोग से ग्रसित हों तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।  

Latest Video

विज्ञापन

Recommended

Next

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।