शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

तस्वीरें कश्मीर: नम आंखों से डीजीपी ने दी शहीद एसपीओ को दी सलामी, कहा-नहीं छोड़ेंगे एक भी आतंकी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, श्रीनगर Updated Thu, 22 Aug 2019 12:52 AM IST
1 of 5
शहीद एसपीओ को आखरी सलामी देते डीजीपी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी - फोटो : अमर उजाला
पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद कश्मीर घाटी में हुई पहली मुठभेड़ में बुधवार को आतंकी संगठन लश्कर-ए-ताइबा के एक दहशतगर्द को मार गिराया गया। ऑपरेशन में एक एसपीओ शहीद हो गया जबकि एक एसआई घायल हुआ है। 

 
विज्ञापन

2 of 5
शहीद एसपीओ को आखरी सलामी देते डीजीपी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी - फोटो : अमर उजाला
मंगलवार को रातभर चली मुठभेड़ के बाद आतंकी को मार गिराने में सफलता हासिल हुई। पांच अगस्त के बाद से घाटी में सुरक्षाबलों की तैनाती के साथ-साथ सतर्कता बढ़ गई थी। तब से अब तक न तो कोई आतंकी हमला हुआ और न ही सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ हुई थी। छिटपुट पथराव की घटनाओं को छोड़कर पूरी घाटी में माहौल शांतिपूर्ण रहा। 

 

3 of 5
शहीद एसपीओ को आखरी सलामी देते डीजीपी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी - फोटो : अमर उजाला
पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि मुठभेड़ में एसपीओ बिलाल अहमद और एसआई अमरदीप परिहार घायल हो गए। एसपीओ ने बाद में दम तोड़ दिया और एसआई परिहार बादामीबाग स्थित सेना के 92 बेस अस्पताल में भर्ती हैं। शहीद बिलाल अहमद को सुरक्षा बलों की ओर से श्रद्धांजलि दी गई। उधर, मारे गए आतंकी की शिनाख्त बारामुला निवासी मोमिन गोजरी के रूप में हुई है। लश्कर से जुड़ा यह आतंकी घाटी में कई आतंकी वारदातों में शामिल रहा है। सुरक्षा बलों को काफी समय से इसकी तलाश थी। 

 

4 of 5
शहीद एसपीओ को आखरी सलामी देते डीजीपी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी - फोटो : अमर उजाला
पुलिस ने बताया कि आतंकियों की मौजूदगी की खुफि या जानकारी के आधार पर सुरक्षा बलों और पुलिस ने मंगलवार की देर रात संयुक्त रूप से तलाशी अभियान शुरू किया था। घेरा सख्त होता देख वहां छिपे आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई से मुठभेड़ शुरू हो गई। रातभर चली मुठभेड़ में एक आतंकी को मार गिराया गया। मुठभेड़ स्थल से हथियार, गोला बारूद तथा अन्य सामग्री बरामद हुई है। प्रवक्ता ने बताया कि स्थानीय लोगों से मुठभेड़ स्थल पर न जाने को कहा गया है क्योंकि वहां अभी विस्फोटक सामग्री होने की आशंका है। क्षेत्र की गहन छानबीन किए जाने और विस्फोटक सामग्री को हटाए जाने तक लोगों से पुलिस के साथ सहयोग करने का अनुरोध किया गया है। 

 

5 of 5
शहीद एसपीओ को आखरी सलामी देते डीजीपी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी - फोटो : अमर उजाला

आतंकियों को अलग-थलग करने तथा उन पर दबाव बनाए रखने के लिए आतंकरोधी अभियान चलता रहेगा। घेराबंदी तथा तलाशी अभियान (कासो) जारी रहेगा। उन पर दबाव कायम रहेगा ताकि वे जनता को गुमराह न कर सकें। - दिलबाग सिंह, डीजीपी

विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।