शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

एक रेस्क्यू ऐसा भी: 'आपदा' ने 13 साल बाद युवक को घरवालों से मिलाया, दिल छू लेने वाली कहानी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Mon, 26 Aug 2019 04:26 PM IST
1 of 5
आपदा के दौरान मिला शिवाजन - फोटो : एसडीआरएफ फेसबुक पेज
अक्सर आपने सुना होगा कि आपदा में कोई अपनों से बिछड़ गया, लेकिन यहां आपदा ही बिहार के एक लड़के के लिए उसके घरवालों से मिलने की वजह बन गई। जी हां, एसडीआरएफ के एक जवान की सजगता से ये युवक आज अपने घरवालों से मिल सकेगा। 
विज्ञापन

2 of 5
शिवाजनऔर जवान कुलदीप सिंह - फोटो : एसडीआरएफ फेसबुक पेज
हाल ही में उत्तरकाशी में आई आपदा के बाद आराकोट के किरानू गांव में राहत-बचाव कार्य चलाया गया। एसडीआरएफ के एक जवान कुलदीप सिंह को उस दौरान एक युवक ने देखा। जवान को सब लोग अपनी समस्या बता रहे थे। इसी बीच एक 22 साल का युवक शिवाजन भी जवान के पास पहुंचा। 

3 of 5
- फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो
शिवाजन की आंखों में आंसू थे। उसे जवान को देखकर एक उम्मीद नजर आई कि वह अपने घर वापस जा सकता है। लेकिन कहां ये उसे पता नहीं था। जवान ने जब उससे बात की तो पता लगा कि वह 13 साल पहले बिहार से कुछ मजदूरों के साथ उत्तरकाशी काम के लिए आया था। वह सेब की पैकिंग का काम करता था।

4 of 5
जवान कुलदीप सिंह - फोटो : एसडीआरएफ फेसबुक पेज
एक दिन मजदूरों का मालिक से झगड़ा हो गया और नौ साल के बच्चे को छोड़कर वे लोग रात को ही गांव से चले गए। इसके बाद वह वहीं पर किसी तरह से गुजर बसर कर रहा है। युवक को अब अपने गांव, पिता का नाम कुछ भी याद नही है। जवान ने जब बात की तो पता लगा कि वह बिहार का रहने वाला है। उसने बताया कि उसके घर के पास बड़े-बड़े हवाई जहाज उड़ते थे। जवान ने शिवाजन को उसके घरवालों से मिलाने की ठान ली और उनकी मेहनत रंग भी लाई। 

5 of 5
- फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो
उन्होंने इंटरनेट की मदद से उसके गांव का पता लगाया। बिहार में पुलिस से संपर्क कर उसके गांव का पता दिया तो परिवार की सारी जानकारी मिल गई। एसडीआरएफ ने शिवाजन की माता फूलादेवी पत्नी स्व. कृष्णा मांझी को उनके बेटे से मिलने और वापस ले जाने के लिए देहरादून बुलाया है। वह अपने बेटे रोहित के साथ देहरादून के लिए निकल चुकी हैं। वहीं एसडीआरएफ ने जवान को उनकी जागरुकता के लिए 2500 रुपये के नगद इनाम देने की घोषणा की है। यह जानकारी एसडीआरएफ ने अपने फेसबुक पेज पर भी शेयर की है। 
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।