शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

जेटली के निधन के बाद सहवाग का खुलासा, 20 साल बाद बोले- टीम में नहीं मिलती जगह

स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला Updated Sat, 24 Aug 2019 08:32 PM IST
1 of 6
वीरेंद्र सहवाग और अरुण जेटली - फोटो : सोशल मीडिया
अरुण जेटली के निधन के बाद टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने भावुक ट्वीट किया है। सहवाग ने जेटली की मौत के बाद अपने क्रिकेटिंग करियर के राज से पर्दा उठाया। वीरू ने 20 साल पुराना वाकया और उससे जुड़ी घटना याद की।
विज्ञापन

2 of 6
वीरेंद्र सहवाग और अरुण जेटली - फोटो : सोशल मीडिया
सहवाग ने 20 साल पुराने इस राज से पर्दा उठाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। जेटली की मौत पर भावुक ट्वीट करते हुए सहवाग ने अपने और कई नवोदित क्रिकेटर्स के लिए किए गए जेटली के कामों को याद किया। साथ-साथ ऐसी बात बताई, जिससे शायद ही कोई क्रिकेट फैन या आम आदमी परिचित हो। सहवाग की बातों पर गौर करें तो उनका साफ तौर पर यही कहना है कि बिना जेटली शायद वह इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू नहीं कर पाते।

3 of 6
अरुण जेटली - फोटो : social Media
सहवाग ने लिखा कि,
एक वक्त था, जब दिल्ली के क्रिकेटरों को हाई लेवल तक जाने का चांस नहीं मिल पाता था, लेकिन डीडीसीए की लीडरशिप के दौरान उन्होंने दिल्ली के क्रिकेटरों को यह मौके दिलवाए। वह खिलाड़ियों की जरुरतें सुनते थे और उन्हें हल भी करते थे। मैं निजी तौर पर उनके साथ एक बेहद खूबसूरत रिलेशनशिप शेयर करता हूं। मेरी प्रार्थना और संवेदना उनके परिवार के साथ है।

4 of 6
arun jaitley - फोटो : अमर उजाला
अरुण जेटली खेल प्रेमी इंसान थे। बीसीसीआई के उपाध्यक्ष भी रहे। इंडियन प्रीमियर लीग में स्पॉट फिक्सिंग कांड के बाद उन्हें एन श्रीनिवासन को हटाकर अध्यक्ष बनाने की बात भी चली, लेकिन बोर्ड में मचे उथल-पुथल के माहौल में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। दिल्ली राज्य क्रिकेट संघ के अध्यक्ष रहते हुए उन्होंने दिल्ली के युवा खिलाड़ियों बेहतरी के लिए काम किया, उनकी दिक्कतों को सुलझाया, जिसके कारण गंभीर, सहवाग, शिखर धवन, आशीष नेहरा और विराट कोहली जैसे खिलाड़ी टीम इंडिया के लिए खेले।

5 of 6
अरुण जेटली और गौतम गंभीर - फोटो : सोशल मीडिया
अरुण जेटली के निधन पर गौतम गंभीर गमगीन हो गए और बेहद ही भावुकता के साथ ट्वीट कर लिखा,

एक पिता हमें बोलना सिखाता है, लेकिन एक पिता तुल्य इंसान बात करना सिखाता है। एक पिता हमें को चलना सिखाता है लेकिन एक पिता तुल्य इंसान हमें मार्च करना सिखाता है। एक पिता आपको एक नाम देता है, लेकिन एक पिता तुल्य इंसान आपको पहचान देता है। मेरे पिता श्री अरुण जेटली जी के साथ मेरा एक हिस्सा चला गया। श्रद्धांजलि सर।

6 of 6
arun jaitley - फोटो : पीटीआई
लंबे समय से बीमार चल रहे अरुण जेटली के निधन के बाद पूरा देश शोक में डूब चुका है। लोग अपनी प्रतिक्रियां दे रहे हैं, उनके किए गए कार्यों को याद कर रहे हैं। दिल्ली के एम्स में शनिवार को दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के कद्दावर नेता रहे जेटली ने आखिरी सांस ली।
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।