शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

राम मंदिर के निर्माण को लेकर दो खेमों में बंटी विहिप, अधिकार पर तकरार

धीरेंद्र सिंह, अयोध्या Updated Thu, 14 Nov 2019 03:55 AM IST
राम मंदिर निर्माण को लेकर सुप्रीम कोर्ट से स्पष्ट निर्णय के बावजूद विश्व हिंदू परिषद बुधवार को दो खेमों में बंटी नजर आई। विहिप ने अपने प्रभुत्व वाले श्रीराम जन्मभूमि न्यास की भूमिका स्पष्ट करते हुए कहा कि अब उनका न्यास राम मंदिर बनाने के लिए कानूनन योग्य नहीं है। 

कोर्ट के आदेश से सरकार को नया ट्रस्ट बनाना है। वहीं इसी ट्रस्ट के अध्यक्ष ने दावा किया कि हम राम मंदिर बनाएंगे, सरकार इसमें शामिल हो सकती है। 

विहिप ने कहा कि हम राम मंदिर निर्माण के लिए जुटाई अपनी सारी संपत्ति व तैयारी सरकार को देने के लिए तैयार हैं। इस नई लड़ाई के बाद हलचल मच गई है। मामले में दिल्ली से लेकर लखनऊ तक रिपोर्ट मांगे जाने से खुफिया एजेंसियां भी सतर्क दिखीं। 

वहीं, श्रीराम जन्मभूमि की अधिगृहीत भूमि के रिसीवर व कमिश्नर मनोज मिश्र ने कहा कि विहिप व साधु-संतों की हर गतिविधि पर प्रशासन की नजर है। मंदिर-मस्जिद के निर्माण में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का ही पालन होगा। 
विज्ञापन

सरकार चाहे तो अधिग्रहण कर ले न्यास

सरकार हमें ट्रस्ट में शामिल करेगी या नहीं यह उसका निर्णय होगा। हम मंदिर निर्माण होने तक बाहर से सक्रिय रहेंगे। सरकार चाहे तो हमारा पूरा न्यास अधिग्रहण कर सकती है। -दिनेश चंद्र, अंतरराष्ट्रीय संरक्षक, विश्व हिंदू परिषद 


नया ट्रस्ट बनाने की आवश्यकता नहीं

सरकार को कोई नया ट्रस्ट बनाने की आवश्यकता नहीं है। राम मंदिर निर्माण के लिए पहले से ही श्रीराम जन्म न्यास बना है, उसी में और संख्या बढ़ाकर निर्माण कार्य हो जाएगा। प्रधानमंत्री की गरज होगी तो वह हजार बार अयोध्या आएंगे, अयोध्या किसी को बुलाने नहीं जाती।  
-महंत नृत्यगोपाल दास, अध्यक्ष, श्रीराम जन्मभूमि न्यास  


रामालय ट्रस्ट का दावा खारिज हुआ तो कोर्ट जाएंगे

रामालय ट्रस्ट पहले से मौजूद है। सरकार का काम मंदिर-मस्जिद बनाना नहीं है। मंदिर बनाने के लिए हम बृहस्पतिवार को केंद्र सरकार के समक्ष अपने ट्रस्ट का दावा प्रस्तुत करेंगे। यदि सरकार इसे खारिज करती है तो हम कोर्ट जाएंगे। 
-स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद, सचिव रामालय ट्रस्ट  


हिंदू-मुस्लिम पक्षकार भी दिखे सक्रिय, निर्मोही अखाड़ा एक सप्ताह में बुलाएगा पंचायत

एक सप्ताह के भीतर पंचायत बुलाकर अखाड़ा के पंच आगे की रणनीति तय करेंगे। मंदिर के लिए सरकार को ट्रस्ट बनाने का अधिकार है, अन्य को रामजी के लिए सब समर्पित करना चाहिए।
-महंत दिनेंद्र दास, निर्मोही अखाड़ा


हमारी पहुंच में होनी चाहिए मस्जिद 

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि अयोध्या में प्रमुख जगह पर मस्जिद के लिए जमीन दी जाए, यह जमीन हमारी पहुंच में होनी चाहिए। अयोध्या से बाहर मस्जिद बनने का औचित्य नहीं है। हम सुप्रीम कोर्ट और सरकार की बात मानेंगे, वह सांस्कृतिक सीमा के भीतर जमीन दे या बाहर।
 -इकबाल अंसारी, मुस्लिम पक्षकार


विहिप कौन होती है मस्जिद की जमीन तय करने वाली 

सुप्रीम कोर्ट ने मुस्लिम समाज को भी पांच एकड़ जमीन देने की बात कही है, लेकिन अभी तक यह तय नहीं हुआ है कि जमीन कहां दी जा रही है। विहिप कौन होती है मस्जिद की जमीन तय करने वाली। हमें सरकार के अगले कदम का इंतजार है। -हाजी महबूब, मुस्लिम पक्षकार

विज्ञापन

Recommended

vishwa hindu parishad two camps ram mandir construction exclusive
विज्ञापन

Spotlight

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।