शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

नखलऊवा पंच: गुप्त ने लखनऊ में नमक कानून तोड़कर दी थी अंग्रेजों की सत्ता को चुनौती

अखिलेश वाजपेयी, अमर उजाला लखनऊ Updated Mon, 15 Apr 2019 05:51 PM IST
चंद्रभानु गुप्त - फोटो : amar ujala
अंग्रेजी हुकूमत में भारतीयों पर तमाम बंदिशें लगाई गईं थी। एक बंदिश नमक को लेकर भी थी। भारतीयों पर प्रतिबंध था कि कोई भी नमक नहीं बना सकता है। नतीजा यह था कि भारतीयों को इंग्लैंड से आयातित नमक ही खरीदना पड़ता था।

जाहिर है कि नमक जैसी वस्तु के लिए भारतीयों को मुंहमांगी कीमत देनी पड़ती थी। इसके विरोध में महात्मा गांधी ने साबरमती आश्रम से दांडी गांव तक पदयात्रा निकाली। लखनऊ में भी नमक कानून तोड़ने की घोषणा हुई।

चंद्रभानु गुप्त जनसेवा संस्थान के अध्यक्ष रघुनंदन सिंह काका बताते हैं, ‘बात 1930 की होगी। बापू के दांडी मार्च से लोग जुड़ते जा रहे थे। अंग्रेजी हुकूमत इस मार्च को विफल करने के लिए पूरी ताकत लगाए थी। गुप्त की उस समय उम्र कोई 28 वर्ष रही होगी
विज्ञापन

गुप्त की यह पहली गिरफ्तारी थी

उनके मन में भी इच्छा जागी कि लखनऊ में भी इस कानून को तोड़कर अंग्रेजी सत्ता को चुनौती दी जाए। जगह-जगह कड़ी चौकसी। पर, गुप्त के दिल में बार-बार यह हूक उठ रही थी कि लखनऊ में भी इस कानून को तोड़ना है। उन्होंने कुछ साथियों से सलाह-मशविरा करके योजना बनाई।

सभी लोग अमीनाबाद पहुंचे। चारों तरफ पुलिस। लोगों से पूछताछ। ये लोग एक-एक करके अमीनाबाद स्थित गूंगे नवाब पार्क पहुंचे। जब तक कोई कुछ समझता ये सभी लोग पार्क के अंदर। नमक बनाकर कानून तोड़ा और भारत माता जिंदाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए। नारों के शोर से हड़बड़ाई पुलिस पार्क पहुंची और गुप्त जी को गिरफ्तार कर लिया। गुप्त की यह पहली गिरफ्तारी थी।’
विज्ञापन

Recommended

chandra bhanu gupta former cm chandra bhanu gupta akhilesh vajpayee

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।