शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

मुश्ताक जरगर है अनंतनाग हमले का मास्टरमाइंड, अल-उमर-मुजाहिदीन का सरगना है यह आतंकी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू Updated Fri, 14 Jun 2019 06:21 AM IST
मुश्ताक जरगर - फोटो : twitter
दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले में बुधवार को सीआरपीएफ की पेट्रोलिंग पार्टी पर हुए हमले के पीछे अल-उमर-मुजाहिदीन के प्रमुख मुश्ताक अहमद जरगर, ‘लटरम’ का हाथ है। सुरक्षा एजेंसियों की मानें तो सीआरपीएफ जवानों पर हुए हमले के पीछे की प्लानिंग मुश्ताक ने की थी। इस आतंकी हमले में पांच जवान शहीद हुए थे।  

आतंकी मुश्ताक अहमद जरगर उर्फ ‘लटरम’ की रिहाई भारतीय विमान आईसी-814 का अपहरण कराने वाले आतंकियों के साथ हुई थी। 1999 के बाद से जरगर पाकिस्तान में बैठक कर जम्मू-कश्मीर में कई बड़ी आतंकवादी वारदातों को अंजाम दे चुका है। सुरक्षा एजेंसियों की माने तो आतंकी जरगर पाकिस्तान के मुजफ्फराबाद में है। उसने अनंतनाग आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है। 

बता दें की जरगर उन आतंकियों में शामिल था जिनकों 1999 में इंडियन एयरलाइंस के विमान संख्या आईसी-814 के अपहृत यात्रियों को छोड़ने की एवज में रिहा कर दिया गया था। उसके साथ ही जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर और शेख उमर को भी छोड़ा गया था। रिहाई के बाद इन आतंकियों ने पाकिस्तान के मुजफ्फराबाद में अपना मुख्यालय बना लिया। जहां से वह आतंकी नेटवर्क को आपरेट कर रहा है। आतंकी आईएसआई के साथ मिलकर जम्मू-कश्मीर में आए दिन आतंकी हमले कराते है। मुश्ताक जरगर ने 2016 में एसएसबी पर हुए हमले की जिम्मेदारी ली थी। अब इस संगठन ने अनंतनाग में सीआरपीएफ पर हमले की बात भी स्वीकार की है।
 
विज्ञापन

एनएसए द्वारा 2017 में पाकिस्तान को सौंपी गई 154 आतंकियों की सूची में टॉप पर था जरगर 

दिसंबर-2017 में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत दोभाल ने अपने थाईलैंड दौरे में पाकिस्तान को 154 आतंकियों की सूची सौंपी थी। इनमें लश्कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद, मसूद अजहर और मुश्ताक जरगर का नाम टॉप पर था। भारत ने इन आतंकियों द्वारा किए गए हमलों के सबूत भी पाकिस्तान को दिए थे। जांच एजेंसियों का कहना है कि अब मुश्ताक जरगर आईएसआई का एक बड़ा मोहरा बन चुका है। इस संगठन के सदस्यों को हथियारों की ट्रेनिंग से लेकर दूसरी तरह की तमाम मदद आईएसआई से मिलती है। 

मूल रूप से कश्मीर का रहने वाला है आतंकी जरगर  
मुश्ताक जरगर का जन्म जम्मू-कश्मीर में हुआ है। 80 के दशक में वह जम्मू कश्मीर लिब्रेशन फ्रंट के साथ जुड़ा था। उस दौरान अशफाक मजीद वानी इस संगठन को देख रहे थे। अशफाक की मौत के बाद मुश्ताक पाकिस्तान पहुंच गया। वहां पर मुश्ताक जरगर ने अल-उमर-मुजाहिदीन नाम से एक नए संगठन बनाया। पाकिस्तान से आतंकी ट्रेनिंग लेकर 1989 में जब वह भारत लौटा था। इसके बाद 15 मई 1992 को जरगर पकड़ा गया। इसके बाद 1999 में उसके साथियों ने विमान का अपहरण कर जरगर और मसूद अजहर को भारतीय कैद से छुड़वा लिया।
विज्ञापन

Recommended

mushtaq zargar anantnag terror attack al-umar-mujahideen crpf

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।