शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

परिजनों से नहीं कर पा रहे हैं संपर्क तो सीआरपीएफ की हेल्पलाइन सेवा 'मददगार' है तैयार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू Updated Tue, 20 Aug 2019 08:22 PM IST
कश्मीर में अपनों से टेलीफोन पर बात करते लोग - फोटो : PTI
केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की श्रीनगर स्थित हेल्पलाइन ‘14411’ एक बार फिर कश्मीरियों के साथ-साथ देश के अन्य हिस्सों में रहने वालों के लिए चालू की गई है। यह हेल्पलाइन फिर से शुरू करने का मकसद है कि अनुच्छेद 370 के कुछ प्रावधानों को खत्म करने के केंद्र के फैसले के बाद पैदा हुए हालात के कारण मुश्किलों का सामना कर रहे लोगों और उनके परिवारों की मदद की जा सके। यह जानकारी अधिकारियों ने दी। 

उन्होंने बताया कि ‘मददगार’ हेल्पलाइन के पांच अंकों वाले लैंडलाइन नंबर को फिर से चालू कर दिया गया है। कश्मीर घाटी में संचार व्यवस्था पर लगाई गई बंदिशों के कारण इसे बंद कर दिया गया था। एक आधिकारिक ट्वीट में सीआरपीएफ ने कहा, ‘‘14411 को फिर से चालू कर दिया गया है, कश्मीरी छात्र और कश्मीर या बाहर रह रहे आम लोग त्वरित सहायता के लिए 24 घंटे नि:शुल्क नंबर 14411 पर सीआरपीएफ मददगार से संपर्क साध सकते हैं।’’ 
 
अधिकारियों ने बताया कि बीते रविवार देर शाम से अब तक लोगों ने इस हेल्पलाइन नंबर पर 500 से ज्यादा कॉल किए हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि फोन करने वाले लोग जम्मू-कश्मीर के हालात के बारे में जानना चाहते हैं। वे अपने परिवारों का कुशलक्षेम जानना चाहते हैं और उनकी अन्य चिंताएं भी अपने परिवार से जुड़ी हुई हैं। सीआरपीएफ उनकी हरसंभव मदद कर रहा है। 

‘मददगार’ ने पिछले सोमवार को ट्विटर पर एक पोस्ट डालकर कहा था कि लोग किसी मदद या जानकारी के लिए उसके मोबाइल नंबर 9469793260 पर कॉल कर सकते हैं, क्योंकि पांच अंकों वाला नंबर काम नहीं कर रहा है। सोमवार को जिस मोबाइल नंबर के बारे में ट्वीट किया गया था उसे लैंडलाइन नंबर पर डायवर्ट कर दिया गया है। सीआरपीएफ ने यह भी कहा कि उसके आधिकारिक ट्विटर हैंडल ‘सीआरपीएफ मददगार’ के जरिए भी मदद मांगी जा सकती है। सीआरपीएफ ने ‘मददगार’ हेल्पलाइन की शुरुआत जून 2017 में की थी।
विज्ञापन

हेल्पलाइन नंबर पर हर तरह की कॉल 

कश्मीर में अपनों से टेलीफोन पर बात करते लोग - फोटो : PTI

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक मददगार हेल्पलाइन पर 2,700 फोन कॉल्स सुरक्षाबलों के परिवार की ओर से, 2448 कॉल्स कश्मीर से बाहर रह रहे लोगों ने अपने परिवार का हालचाल जानने के लिए किया। 1,752 कॉल्स गैर-कश्मीरियों ने कश्मीर के लोगों का हाल जानने के लिए की। प्रदेश से बाहर रहनेवालों ने हेल्पलाइन के जरिए अपने परिवार की खैरियत मालूम की।
 

विदेशों से भी काफी फोन कॉल्स 

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक टोल फ्री नंबर 14411 पर सऊदी अरब से 45 कॉल आए। कुल 22 देशों से कश्मीर में अपनों का हाल जानने के लिए फोन आए। इनमें से 39 फोन कॉल्स यूएई से, 12 कुवैत से, 8-8 इजरायल और मलयेशिया से, 7 रूस से, 6-6 अमेरिका और तुर्की से, 5 ऑस्ट्रेलिया से, 4-4 यूके, सिंगापुर और बांग्लादेश से आईं। तीन-तीन फोन कॉल्स कनाडा, बहरीन, जर्मनी, फिलीपींस और थाइलैंड से आईं जबकि ओमान, फ्रांस और बेल्जियम से 2-2 कॉल आईं। वहीं, चीन और कतर से एक-एक फोन कॉल आई। 

विज्ञापन

Recommended

madadgaar helpline number jammu kashmir helpline number crpf helpline number crpf kashmir

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।