शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

क्या है एफएटीएफ, जिसने आतंकी फंडिंग मामले में पाक को किया ब्लैकलिस्ट

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 23 Aug 2019 03:31 PM IST
पाकिस्तान को काली सूची में डाला - फोटो : PTI
फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने आतंकी संगठनों को फंडिग रोकने में नाकाम होने पर पाकिस्तान को काली सूची में डाल दिया है। एफएटीएफ ने पाया कि पाकिस्तान ने धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) और आतंकवाद के वित्त पोषण संबंधी 40 अनुपालन मानकों में से 32 का पालन नहीं किया।

2018 में डाला गया था ग्रे सूची में 

पाकिस्तान को जून 2018 में ग्रे सूची में डाला था। अक्टूबर 2018 और फरवरी 2019 में हुए रिव्यू में भी पाक को राहत नहीं मिली थी। पाक एफएटीएफ की सिफारिशों पर काम करने में विफल रहा।

फ्रांस पहुंचे मोदी और...ब्लैकलिस्ट हुआ पाक

एफएटीएफ की जिस बैठक में पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट किया गया वह फ्रांस की राजधानी पेरिस में आयोजित की गई थी। यह संयोग ही है कि इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी भी पेरिस में मौजूद थे। हालांकि वह इस बैठक में शामिल नहीं थे। 
विज्ञापन

जानिए क्या है एफएटीएफ और कौन-कौन से देश हैं इसके सदस्य

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) एक अंतर-सरकारी निकाय है जिसे फ्रांस की राजधानी पेरिस में जी7 समूह के देशों द्वारा 1989 में स्थापित किया गया था। इसका काम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग), सामूहिक विनाश के हथियारों के प्रसार और आतंकवाद के वित्तपोषण पर निगाह रखना है। 

इसके अलावा एफएटीएफ वित्त विषय पर कानूनी, विनियामक और परिचालन उपायों के प्रभावी कार्यान्वयन को बढ़ावा भी देता है। एफएटीएफ का निर्णय लेने वाला निकाय को एफएटीएफ प्लेनरी कहा जाता है। इसकी बैठक एक साल में तीन बार आयोजित की जाती है।

क्या करता है एफएटीएफ

एफएटीएफ अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली को दुरुपयोग से बचाने के लिए राष्ट्रीय स्तर की कमजोरियों की पहचान करने के लिए काम करता है। अक्टूबर 2001 में एफएटीएफ ने धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) के अलावा आतंकवादी वित्तपोषण से निपटने के प्रयासों को शामिल किया। जबकि अप्रैल 2012 में इनकी कार्यसूची में सामूहिक विनाश के हथियारों के प्रसार के वित्तपोषण का मुकाबला करने के प्रयासों को जोड़ा गया।

एफएटीएफ अपने द्वारा दी गई सिफारिशों को लागू करने में देशों की प्रगति की निगरानी करता है। इसके अलावा मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवादी वित्तपोषण की तकनीकों को खत्म करने की उपायों की समीक्षा करता है। इसके साथ ही एफएटीएफ विश्व स्तर पर अपनी सिफारिशों को अपनाने और लागू करने को बढ़ावा देता है।

एफएटीएफ के सदस्य और पर्यवेक्षक, क्या पाकिस्तान इसका सदस्य है...

वर्तमान में एफएटीएफ के कुल 39 सदस्य हैं। जिसमें 37 सदस्य देश और 2 क्षेत्रीय संगठन शामिल हैं, जो दुनिया के लगभग सभी हिस्सों में सबसे प्रमुख वित्तीय केंद्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। बड़ी बात यह है कि पाकिस्तान इस संगठन का सद्स्य नहीं है।
  • अर्जेंटीना
  • ऑस्ट्रेलिया
  • ऑस्ट्रिया
  • बेल्जियम
  • ब्राजील
  • कनाडा
  • चीन
  • डेनमार्क
  • यूरोपीय यूनियन
  • फिनलैंड
  • फ्रांस
  • जर्मनी
  • ग्रीस
  • गल्फ़ कोऑपरेशन काउंसिल
  • हांगकांग, चीन
  • आइसलैंड
  • भारत
  • आयरलैंड
  • इजराइल
  • इटली
  • जापान
  • कोरिया गणराज्य
  • लक्समबर्ग
  • मलेशिया
  • मेक्सिको
  • नीदरलैंड, का राज्य
  • न्यूजीलैंड
  • नॉर्वे
  • पुर्तगाल
  • रूसी संघ
  • सऊदी अरब
  • सिंगापुर
  • दक्षिण अफ्रीका
  • स्पेन
  • स्वीडन
  • स्विट्जरलैंड
  • तुर्की
  • यूनाइटेड किंगडम
  • अमेरिका

एफएटीएफ पर्यवेक्षक

  • इंडोनेशिया

एफएटीएफ का कब सदस्य बना भारत

एफएटीएफ प्लेनरी ने 24 जून 2010 को भारत में पारस्परिक मूल्यांकन रिपोर्ट को अपनाया और 25 जून 2010 को एफएटीएफ के 34वें सदस्य देश के रूप में भारत को शामिल किया।

एफएटीएफ के अध्यक्ष

वर्तमान में एफएटीएफ के अध्यक्ष पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के जियांगमिन लियू हैं जिन्होंने 1 जुलाई 2019 को अपना कार्यभार ग्रहण किया है। उन्होंने अमेरिका के मार्शल बिलिंगस्ले का स्थान लिया है। भारत से अब तक कोई भी इस संगठन का अध्यक्ष नहीं बन पाया है।

एफएटीएफ के अध्यक्ष की नियुक्ति एक साल के लिए होती है। जिसे सदस्य देशों में से एफएटीएफ प्लेनरी द्वारा नियुक्त किया जाता है। अध्यक्ष का कार्यकाल एक जुलाई से शुरू होता है और अगले वर्ष के 30 जून को समाप्त होता है। अध्यक का काम एफएटीएफ प्लेनरी और स्टीयरिंग ग्रुप की बैठकों का आयोजन और अध्यक्षता करना होता है। इसके अलावा वह एफएटीएफ सचिवालय की देखरेख भी करते हैं।
विज्ञापन

Recommended

fatf fatf pakistan fatf news terror funding case

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।