शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

PM मोदी बोले- एक बेटी, 10 बेटों के बराबर, मन की बात की 10 बड़ी बातें...

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sun, 28 Jan 2018 12:45 PM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश से 40वीं बार मन की बात की। इस बार मन की बात की शुरुआत पीएम ने महिलाओं के हर क्षेत्र में बढ़ रहे सहयोग की तारीफ के साथ की। आईए आपको बताते है पीएम के भाषण की 10 बड़ी बातें...
विज्ञापन
1. पीएम ने कहा कि एक बेटी, 10 बेटों के बराबर होती है। दस बेटों से जितना पुण्य मिलेगा, एक बेटी से उतना ही पुण्य मिलेगा। यह हमारे समाज में नारी के महत्व को दर्शाता है, और तभी तो, हमारे समाज में नारी को ‘शक्ति’ का दर्जा दिया गया है।

2. पीएम मोदी ने कल्पना चावला को याद करते हुए कहा कि उनकी 1 फरवरी को पुण्य तिथि है। पीएम ने कहा कि कल्पना दुनिया भर के लाखों युवाओं के प्रेरणा का स्रोत थी।

3. पीएम ने कहा कि रक्षा-मंत्री निर्मला सीतारमण ने लड़ाकू विमान सुखोई 30 उड़ाया और अब  तीन बहादुर महिलाएँ भावना कंठ, मोहना सिंह और अवनि चतुर्वेदी फाइटर पायलट बनी हैं और सुखोई-30 में प्रशिक्षण ले रही हैं। 

4. पद्म सम्मान दिए जाने पर पीएम मोदी ने कहा कि हर साल पद्म-पुरस्कार की परंपरा रही है, लेकिन पिछले तीन सालों में ये प्रक्रिया बदल गई है।

5. अब व्यक्ति की पहचान पर नहीं उसके काम पर पद्म सम्मान दिया जाता है।

6. केरल की आदिवासी महिला लक्ष्मीकुट्टी के लिए पीएम ने कहा कि उन्हें जड़ी-बूटियों में महारत हासिल है। सांप काटने के बाद उपयोग की जाने वाली दवाई बनाने में उन्हें महारत हासिल है।

7. महात्मा गांधी की पुण्यतिथि 30 जनवरी का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि बापू ने हम सभी को एक नया रास्ता दिखाया है। उस दिन हम ‘शहीद दिवस’ मनाते हैं।

8. प्रवासी भारतीय दिवस 9 जनवरी को मनाया जाता है इसके लिए पीएम ने कहा कि इस दिन हम विश्वभर में रह रहे भारतीयों के बीच अटूट बंधन का जश्न मनाते हैं।

9. भारतीय हर क्षेत्र में समर्पित है, कोई साइबर सिक्योरिटी, तो कोई जलवायु परिवर्तन पर काम शोध कर रहा है। जहाँ भी हमारे लोग हैं, उन्होंने वहाँ की धरती को किसी न किसी तरीके से सुसज्जित किया है। 

10. छत्तीसगढ़ नक्सलप्रभावित इलाका है, फिर भी आदिवासी महिलाओं ने नई मिसाल पेश की है। ऐसे ख़तरनाक इलाक़े में आदिवासी महिलाएं, ई-रिक्शा चला कर आत्मनिर्भर बन रही हैं।

Spotlight

Most Read

Related Videos

Related

विज्ञापन
Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।