शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

तीसरे मोर्चे की जमीन तैयार करने में जुटे दिग्गज, 2019 से पहले भाजपा की परेशानी बढ़ना तय

हिमांशु मिश्र, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 08 Mar 2018 08:46 PM IST
पीएम मोदी और अमित शाह - फोटो : ANI
शिवसेना के एकला चलो की घोषणा के बाद टीडीपी का एनडीए सरकार से नाता तोड़ने के साथ ही चुनावी वर्ष से ठीक पहले केंद्र की सियासत में नए-नए समीकरण बनने लगे हैं। जल्द ही सियासी क्षत्रपों की ओर से तीसरा मोर्चा और कांग्रेस की ओर से गैर-राजग गठबंधन की जमीन तैयार करने का सिलसिला तेज होगा। बदले माहौल में सोनिया गांधी ने 13 मार्च को विपक्षी दलों को डिनर पर आमंत्रित किया है, तो टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव ने तीसरे मोर्चा बनाने की वकालत की है। वहीं त्रिपुरा के नतीजे आने के बाद सपा-बसपा फिर से एक नाव पर सवार हो गए हैं।
विज्ञापन
नए सियासी घटनाक्रम कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए चिंताजनक तस्वीर पेश कर रहे हैं। भाजपा की मुश्किल यह है कि गठबंधन में बिखराव की शुरुआत ऐसे समय में हो रही है, जब पार्टी चुनावी वर्ष में प्रवेश कर रही है। पार्टी से शिवसेना और टीडीपी की नाराजगी खुल कर सामने आ गई है, जबकि बिहार में जीतन राम माझी गुट एनडीए का साथ छोड़ चुका है। 

रालोसपा और लोजपा के मुखिया क्रमश: उपेंद्र कुशवाहा और रामविलास पासवान नीतीश कुमार से असहज रिश्तों के कारण जदयू की एनडीए में वापसी से सहज नहीं हैं। ऐसे में चुनाव तक ये दोनों दल भी बड़ा निर्णय ले सकते हैं। हालांकि भाजपा आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस, तो तमिलनाडु में अन्नाद्रमुक और रजनीकांत की पार्टी को साध कर इसकी भरपाई की कोशिश कर सकती है।

उधर कांग्रेस की मुश्किल यह है कि क्षेत्रीय दलों के कई दिग्गज कांग्रेस से दूरी बनाए रखना चाहते हैं। इसका कारण कई राज्यों में सियासी लड़ाई कांग्रेस और क्षेत्रीय दलों के बीच होना है। 

राजद ही कांग्रेस के गैर-राजग गठबंधन की मुहिम में खुल कर साथ आ सकता है। वाम दलों ने पहले ही कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावनाओं पर पानी फेर दिया है, जबकि यूपी में साथ आई सपा-बसपा का फिलहाल कांग्रेस के लिए रुख स्पष्ट नहीं है।

तीसरे मोर्चे के नेतृत्व पर क्षत्रपों की नजर
वैसे तो देश में गैर-राजग और गैर-कांग्रेस कई क्षेत्रीय दल हैं और पहले की तरह तीसरे मोर्चे की जमीन तैयार होने की संभावना भी है। मगर नेतृत्व के सवाल पर संकट है। 

नायडू ने अगर एनडीए का दामन छोड़ा, तो वह इस मोर्चे का नेतृत्व करना चाहेंगे। जबकि केसीआर पहले ही इस पर अपना दावा जता चुके हैं। वाम दल भी इसका नेतृत्व करना चाहते हैं, जबकि ममता बनर्जी, शरद पवार लंबे समय से इस दिशा में प्रयास कर रहे हैं।

Spotlight

Most Popular

Related Videos

विज्ञापन
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।