शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

मुजफ्फरपुर आश्रयगृह मामला: पीड़िताओं को परिवारों के पास भेजने पर सुप्रीम कोर्ट में फैसला आज

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 12 Sep 2019 03:27 AM IST
मुजफ्फरपुर आश्रयगृह मामला

खास बातें

  • टीआईएसएस ने शीर्ष अदालत को सौंपी स्टेट्स रिपोर्ट, बालिकाओं को बताया पूरी तरह फिट
  • ‘कोशिश’ की तरफ से पीठ को यह जानकारी दी गईं कि सभी आठ बालिकाएं पूरी तरह स्वस्थ और फिट हो चुकी हैं
  • कुछ बालिकाओं के परिजन उन्हें वापस लेने के इच्छुक हैं, लेकिन कुछ बालिकाएं दिव्यांग हैं
सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा कि वह बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड की पीड़िताओं को उनके परिवारों के पास भेजने के मुद्दे पर गुरुवार को फैसला लेगा। बता दें कि पिछले साल मुजफ्फरपुर में एक एनजीओ की तरफ से चलाए जा रहे शेल्टरहोम में रहने वाली बहुत सारी बालिकाओं के यौन शोषण का मामला सामने आया था। यह मामला टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) की तरफ से बिहार के शेल्टरहोम में सोशल ऑडिट कराए जाने पर सामने आया था।
विज्ञापन
इस मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस एनवी रमाना और जस्टिस अजय रस्तौगी की पीठ ने बुधवार को कहा कि वह इन बालिकाओं को परिजनों को सौंपने के मुद्दे पर गुरुवार को आदेश सुनाएंगे। पीठ ने यह बात टीआईएसएस के फील्ड एक्शन प्रोजेक्ट ‘कोशिश’ की तरफ से सीलबंद लिफाफे में स्टेट्स रिपोर्ट सौंपने के बाद कही। 

‘कोशिश’ की तरफ से पीठ को यह भी जानकारी दी गईं कि सभी आठ बालिकाएं पूरी तरह स्वस्थ और फिट हो चुकी हैं। ऐसे में उन्हें परिजनों को सौंपा जा सकता है। टीआईएसएस की तरफ से पेश वकील ने बताया कि ‘कोशिश’ ने पांच बालिकाओं के परिजनों से संपर्क साध लिया है, लेकिन उनके घर का सत्यापन करना अभी बाकी है। 

वकील ने बताया कि कुछ बालिकाओं के परिजन उन्हें वापस लेने के इच्छुक हैं, लेकिन कुछ बालिकाएं दिव्यांग हैं। एक बच्ची अपने परिजनों का पता नहीं बता सकी है, लेकिन उसने घर के आसपास की पहचान बताई है। इस आधार पर उसके घर की तलाश जारी है। वकील ने पीठ से फिट लड़कियों को परिजनों को सौंपने का आदेश जारी करने का आग्रह किया। 

साथ ही बिहार की चाइल्ड वेलफेयर कमेटी को भी इस बारे में उचित निर्देश देने की मांग की। इस पर पीठ ने गुरुवार को आदेश जारी करने की बात कही। गुरुवार को चाइल्ड वेलफेयर एक्शन कमेटी और राज्य सरकार भी इस रिपोर्ट पर अपना जवाब दाखिल करेंगे। 
विज्ञापन

Recommended

muzaffarpur news muzaffarpur shelter home case मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड tata institute of social science बिहार शेल्टर होम केस

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।