कन्हैया पर विवादित बयान देने वाले से भाजपा ने तोड़ा नाता

Home›   India News›   kuldeep is out from bjp for six years

ब्यूरो/अमर उजाला, बदायूं

kuldeep is out from bjp for six years

जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की जीभ काटने वाले को पांच लाख रुपये इनाम देने की घोषणा करने वाले भाजयुमो नेता कुलदीप वार्ष्णेय से भाजपा पदाधिकारियों ने किनारा कर लिया है। जिलाध्यक्ष ने प्रेस कांफ्रेंस करके वार्ष्णेय को भाजयुमो से छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित करने की घोषणा की। साथ ही कहा कि वार्ष्णेय को भाजयुमो जिलाध्यक्ष पद से हटाने के लिए वह छह महीने पहले ही संस्तुति कर चुके हैं और तभी से अंकित मौर्य मोर्चा के जिलाध्यक्ष पद का काम देख रहे हैं। साथ ही जोड़ा कि वार्ष्णेय के बयान या घोषणा से पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। शुक्रवार की रात वार्ष्णेय ने एक टीवी चैनल से बातचीत में देशद्रोह के मुद्दे पर कन्हैया कुमार के खिलाफ बयान दिए। खबर फ्लैश होते ही राजनीतिक गलियारे में सनसनी फैल गई। विरोधियों ने जब इसकी कड़ी निंदा शुरू की तो बुधवार को भाजपा पदाधिकारियों ने प्रेसवार्ता कर कहा कि इन दिनों वार्ष्णेय पार्टी का हिस्सा नहीं हैं। भाजपा के पांचाल प्रदेश के अध्यक्ष बीएल वर्मा ने तो कुलदीप वार्ष्णेय को मनोरोगी तक बता दिया। उनका कहना था कि उनका इसी कारण दिल्ली में इलाज चल रहा है। भाजपा के पूर्व विधायक महेश गुप्ता के आवास पर पत्रकारों से बातचीत में भाजपा जिलाध्यक्ष हरीश शाक्य ने कहा कि कुलदीप वार्ष्णेय ने जेएनयू कांड के कन्हैया कुमार के खिलाफ जो भी विवादित बयान दिया है, उससे पार्टी का कोई लेनादेना नहीं है। पार्टी ने छह माह पूर्व ही कुलदीप को युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष पद से हटा दिया है। भाजपा जिलाध्यक्ष ने प्रेस वार्ता में ही उनकी प्राथमिक सदस्यता खत्म करने और छह वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित किए जाने की घोषणा भी की। हालांकि एक मनोरोगी, जो युवा मोर्चा पदाधिकारी भी नहीं, वह अधिवेशन में कैसे? इस सवाल का जवाब भाजपा पदाधिकारी नहीं दे पाए। कुलदीप का कहना है कि उन्होंने एक देशभक्त होने के नाते यह बयान दिया है। वह अब भी मोर्चा के जिलाध्यक्ष हैं। इसी नाते वह मथुरा अधिवेशन में गए हैं। भारत माता के खिलाफ बोलने वालों की जीभ काट लेनी ही चाहिए। उन्होंने गृह मंत्रालय और प्रधानमंत्री से भी कन्हैया के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। बताते चलें कि भाजयुमो के जिलाध्यक्ष कुलदीप वार्ष्णेय समेत एक अन्य नेता को करीब छह माह पहले भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष प्रेमस्वरूप पाठक ने पद से हटाने के साथ पार्टी से भी निकाले जाने की संस्तुति प्रदेश हाईकमान के पास भेजी थी। इसके बाद वार्ष्णेय गंभीर रूप से बीमार हो गए, उनका इलाज दिल्ली में करीब एक माह तक चला। इस बीच जिलाध्यक्ष पाठक ने अंकित मौर्य को कार्यवाहक जिलाध्यक्ष मनोनीत कर दिया। इसके बाद भी वार्ष्णेय बतौर जिलाध्यक्ष मोर्चा के कार्यक्रम करते रहे। शनिवार को मथुरा में युवा मोर्चा के अधिवेशन में बतौर जिलाध्यक्ष कुलदीप वार्ष्णेय को बुलाया गया। वह कार्यकर्ताओं के साथ शुक्रवार रात बदायूं से निकले तो उन्होंने टीवी चैनल को कन्हैया की जीभ काट लाने संबंधी बयान देकर सनसनी फैला दी।
Share this article
Tags: jnu , kanhaiya ,

Also Read

'क्या कर रहा है कन्हैया गतिविधियों की खबर थाने में दें’

JNU में पोस्टर लगाने के वाले के खिलाफ मामला दर्ज, जांच शुरू

Most Popular

सेक्स रैकेट में पकड़ी गई एक्ट्रेस का नाम आ गया सामने, एक कस्टमर से लिए जाते थे 50 हजार रुपए

SEX स्कैंडल में पकड़ीं एक्ट्रेस ने खोला बॉलीवुड का काला सच, 50 हजार में जिस्म परोसने को मजबूर हीरोइनें

PHOTOS में जानिए उन मशहूर एक्ट्रेसेज के बारे में जो सेक्स रैकेट में रंगे हाथों पकड़ी गईं

LIVE: गुजरात-हिमाचल में जीत के बाद भाजपा मुख्यालय पहुंचे पीएम, शाह की थपथपाई पीठ

ग्रीम स्मिथ ने कहा, टीम इंडिया के ये 3 खिलाड़ी हैं सबसे खास, अपने दम पर बदल देते हैं मैच का रुख

सरकार बनाने का कर रहे थे दावा, अब सीट तक नहीं बचा पाए ये 10 दिग्गज नेता