शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

किसके आदेश पर जामिया कैंपस में घुसी थी पुलिस, दिल्ली पुलिस लगाएगी पता!

डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 16 Dec 2019 04:48 PM IST
D Raja, Sitaram yechuri, Gulam nabi azad and Kapil Sibbal - फोटो : Social Media
जामिया विश्वविद्यालय में हुई पुलिसिया कार्रवाई की परतें धीरे-धीरे खुलेंगी। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंच गया है। खैर जो भी हो, लेकिन अब एक सवाल खड़ा हो गया है कि दिल्ली पुलिस को जामिया विश्वविद्यालय के भीतर जाने का आदेश किसने दिया था। आपको यह सुनकर हैरानी होगी कि इस मामले की जांच भी दिल्ली पुलिस ही करेगी। यानी पुलिस ही यह पता लगाएगी कि पुलिस को यह आदेश किसने दिया था।
विज्ञापन

सीपीआई के राज्यसभा सांसद डी. राजा ने सोमवार को कॉन्स्टिटूशन क्लब में विपक्षी दलों के नेताओं की तरफ से आयोजित एक प्रेसवार्ता में कहा कि मैंने जामिया मामले की हकीकत जानने के लिए दिल्ली पुलिस से बातचीत की थी। दिल्ली पुलिस ने मुझे कई बातें बताईं। जैसे कोई दुर्घटना नहीं हुई, और पुलिस ने मेडिकल हेल्प दी है। जब मैंने पूछा कि पुलिस को विश्वविद्यालय में घुसने का आदेश किसने दिया था, इस सवाल पर पुलिस बोली कि हम जांच कर यह बात पता लगाएंगे।
 
डी. राजा ने कहा कि पुलिस ने जामिया परिसर को घेर कर छात्रों को पीटा है। मोदी सरकार ने देश का शांतिपूर्ण माहौल खराब कर दिया है। पहले 370, फिर नागरिकता संशोधन बिल और अब जामिया विश्वविद्यालय का मामला, इन सब के चलते देश में सिविल वॉर की स्थिति बन गई है। सपा सांसद जावेद अली ने कहा कि जामिया में पुलिस ने बर्बतापूर्वक तरीके से छात्रों पर लाठियां बरसाई हैं। मोदी सरकार के नागरिकता संशोधन बिल का देशव्यापी विरोध हो रहा है। संसद का विशेष सत्र बुलाकर सरकार को यह बिल वापस लेना होगा।

जबरन पास कराया नागरिकता संशोधन बिल!

प्रेसवार्ता में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मोदी सरकार ने राज्यसभा में दबाव के जरिए नागरिकता संशोधन बिल पास कराया है। लोकसभा में तो उनके पास बहुमत था, लेकिन राज्यसभा में मोदी सरकार मजबूत नहीं थी। राज्यसभा में क्षेत्रीय दलों ने मोदी सरकार के दबाव में आकर इस बिल का समर्थन कर दिया। सरकार अपने विवादित बिलों को पास कराने के लिए कई तरह से विपक्षी दलों के मुख्यमंत्रियों पर दबाव डालती है। अगर सभी क्षेत्रीय दलों के पास पूर्ण आजादी हो तो वे कभी भी इस बिल को पास नहीं होने देते।

पाकिस्तान तो मरा हुआ देश है! 

गुलाम नबी आजाद ने एक सवाल में जवाब में कहा कि मोदी अपने गलत कामों को जायज बताने के लिए पाकिस्तान का नाम जानबूझ कर बीच में ले आते हैं। अरे, पाकिस्तान तो खुद एक मरा हुआ देश है। उसका नाम लेकर बिल्ली कुत्ते को तो डराया जा सकता है, लेकिन हिन्दुस्तान की जनता को उसके जरिए भयभीत नहीं किया जा सकता। भाजपा की यह डराने वाली नीति बहुत पुरानी है। धारा 370 या एसीबी जैसे विवादित बिल लाकर मोदी सरकार मूल समस्याओं से लोगों का ध्यान भटका रही है।

उन्होंने कहा कि देश में किसानों की दयनीय हालत, शिक्षा, स्वास्थ्य, अर्थव्यवस्था और महंगाई जैसे असल मुद्दों से सरकार का कोई लेना देना नहीं है। विपक्षी दलों ने नागरिकता संशोधन बिल जैसे मसलों पर बातचीत करने के लिए राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा है।
 
विज्ञापन

Recommended

congress citizen amendment bill delhi police jamia millia islamia
विज्ञापन

Spotlight

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।