शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

जामिया हिंसा पर देशभर के छात्रों में उबाल, लखनऊ से लेकर मुंबई-हैदराबाद तक मचा बवाल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 16 Dec 2019 04:38 PM IST
विज्ञापन
जामिया के छात्रों का प्रदर्शन जारी - फोटो : अमर उजाला
जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों पर दिल्ली पुलिस की कार्रवाई के विरोध में देशभर के कई विश्वविद्यालयों के छात्रों में भारी नाराजगी है। इसके विरोध में देशभर के कई विश्वविद्यालयों के छात्र विरोध में सड़क पर उतर आए। दिल्ली से लेकर हैदराबाद, लखनऊ, मुंबई और कोलकाता तक इसे लेकर बवाल मचा हुआ है और छात्रों के धरना-प्रदर्शनों का दौर जारी है। छात्र दिल्ली पुलिस के खिलाफ जांच और कार्रवाई की मांग पर अड़े हैं।
विज्ञापन


नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे जामिया के छात्रों पर कार्रवाई के बाद अब दूसरे तमाम छात्र भी सड़कों पर उतर आए हैं। इनकी मांग है कि जामिया लाइब्रेरी के अंदर आंसू गैस फेंके जाने और बिना अनुमति कैंपस में पुलिस के घुसने की जांच की जाए। छात्र दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन भी करने पहुंचे।

दिल्ली में विरोध प्रदर्शन

पुलिस कार्रवाई के विरोध में दिल्ली विश्वविद्यालय के कई छात्रों ने परीक्षा का भी बहिष्कार कर दिया है। छात्रों का कहना है कि वे इंडिया गेट पर धरना देंगे। पुलिस कार्रवाई के विरोध में जामिया के कुछ छात्रों ने हाड़ कंपाती ठंड में अर्धनग्न प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शन कर रहे छात्र इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। इनकी मांग है कि पुलिस कार्रवाई की सीबीआई जांच कराई जाए।

पुलिस कार्रवाई में घायल हुई एक छात्रा खंजाला कहती हैं, हम सभी विश्वविद्यालय के अंदर थे तभी पुलिस घुस आई। करीब 20 पुलिसकर्मी गेट नंबर सात से और 50 पुलिसकर्मी पिछले गेट से अंदर घुस आए। हमने उनसे कहा कि हम हिंसा में शामिल नहीं हैं। लेकिन उन्होंने हमारी नहीं सुनी। उन्होंने महिलाओं को भी नहीं छोड़ा। कुछ महिलाओं ने घायल छात्रों को वहां से निकाला।

रविवार को हुई हिंसा के बाद पुलिस ने जामिया के 50 छात्रों को हिरासत में लिया था, इन्हें आज रिहा कर दिया गया। लेकिन कैंपस में अब भी तनाव जारी है।

नदवा कॉलेज लखनऊ

वहीं, लखनऊ के नदवा कॉलेज में भी जामिया हिंसा की गूंज सुनाई पड़ी। यहां सैकड़ों छात्रों ने प्रदर्शन और नारेबाजी की। पुलिस की मौजूदगी में नारे लगे- आवाज दो हम एक हैं। पुलिस हालात को संभालने में जुटी रहे। यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि नदवातुल उलमा के कुछ छात्रों ने प्रदर्शन करने और पत्थर फेंकने की कोशिश की थी। उन्हें रोका गया और किसी को भी बाहर नहीं आने दिया गया।

मौलाना आजाद उर्दू विश्वविद्यालय हैदराबाद

हैदराबाद के मौलाना आजाद उर्दू विश्वविद्यालय तक भी जामिया हिंसा की आंच पहुंची। छात्रों ने आधी रात को प्रदर्शन किया और परीक्षाएं टालने की मांग की।  

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय और कोलकाता की जादवपुर विश्वविद्यालय में भी ऐसा ही नजारा दिखा। दोनों जगह छात्रों ने सरकार से पुलिस कार्रवाई के खिलाफ जांच की मांग की।

बीएचयू के एक पीएचडी छात्र ने कहा, जामिया में जो कुछ कल हुआ उसे कार्रवाई कहना छोटा शब्द होगा। ये पूरी तरह से गुंडागर्दी है। पुलिस द्वारा मोटरसाइकिलों को तोड़ने और छात्र को पीटने के वीडियो सोशल मीडिया पर देखे जा सकते हैं। सरकार को जवाबदेही जरूर तय करनी चाहिए।

जादवपुर विश्वविद्यालय कोलकाता

वहीं, जादवपुर विश्वविद्यालय में भी छात्र इस घटना से नाराज दिखे। एक छात्रा रिद्धिमा दुआ ने कहा, कैंपस के अंदर आंसू गैस के गोले कैसे दागे जा सकते हैं? अगर मेरे साथ सड़क पर किसी तरह की छेड़छाड़ होती है और मैं पुलिस के पास जाती हूं तो कई औपचारिकताएं पूरी करने को कहा जाता है। अब वो नियम कहां गए? एक बंद कैंपस में आखिर आंसू गैस के गोले कैसे दागे जा सकते हैं? वाइस चांसलर की इजाजत के बगैर कैंपस में पुलिस आखिर कैसे दाखिल हो सकती है?

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस मुंबई

मुंबई के टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस के छात्रों ने भी इस घटना का विरोध किया और सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्र दिल्ली पुलिस शर्म करो के नारे लगा रहे थे।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी

जामिया में छात्रों पर कार्रवाई के खिलाफ सबसे पहले विरोध प्रदर्शन अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में शुरू हुआ था। रविवार रात को छात्रों की पुलिस से भिड़ंत भी हुई। विरोध प्रदर्शन के बाद प्रशासन ने एएमयू को 5 जनवरी तक बंद रखने का आदेश देते हुए छात्रों से हॉस्टल खाली करने को कहा है।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय

दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र भी जामिया छात्रों के समर्थन में सड़कों पर उतर आए हैं। इन्होंने रविवार रात दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन करते हुए मामले की जांच करने और जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की है।
विज्ञापन

Recommended

cab citizenship act 2019 jamia milia delhi police amu jnu jadavpur university nadwa college lucknow
विज्ञापन

Spotlight

Recommended Videos

View More Videos

Most Read

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।