शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

राज्यसभा सीट के लिए कांग्रेस में मारामारी, सैम पित्रोदा और जनार्दन द्विवेदी के नाम पर कर्नाटक की ना

अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली Updated Fri, 09 Mar 2018 03:43 AM IST
राज्यसभा की खाली हो रही सीटों के लिए कांग्रेस में दावेदारों के बीच मारामारी की स्थिति है। राज्यों में पर्याप्त संख्या बल नहीं होने और कार्यकाल खत्म कर रहे सदस्यों को फिर से मौका देने के दबाव के चलते शीर्ष नेतृत्व की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी टीम के कुछ सदस्यों को भी मौका देना चाहते हैं। 

कर्नाटक ने सैम पित्रोदा और जनार्दन द्विवेदी के नाम को मंजूरी देने से इनकार कर दिया है। सूत्रों की मानें तो राहुल ने पित्रोदा और द्विवेदी के लिए मुख्यमंत्री सिद्धारमैया से बात की थी लेकिन उन्होंने जो तर्क दिए, उसे राहुल भी खारिज नहीं कर सके। सिद्धारमैया का कहना था कि विधानसभा चुनाव से ठीक पहले किसी बाहरी नेता को राज्यसभा भेजना ठीक नहीं होगा। राज्य से तीन सीटों पर कांग्रेस जीत सकती है।
 
अब पित्रोदा को गुजरात से राज्यसभा भेजने पर विचार हो रहा है। राज्य से पार्टी दो सदस्यों को राज्यसभा भेज सकती है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर राहुल और कांग्रेस की छवि चमकाने में पित्रोदा अहम भूमिका निभा रहे हैं। वहीं सोनिया के करीबी द्विवेदी का कार्यकाल दिसंबर को खत्म हो चुका है तथा वह एक और कार्यकाल चाहते हैं। जबकि गुजरात से प्रदेश अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी को अच्छे नतीजों का इनाम दिया जाना है। 
विज्ञापन

बिहार और बंगाल में अन्य दलों से लेगी मदद

राज्यसभा
कांग्रेस पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की मदद से एक सीट हासिल करना चाहती है। ममता के अपने सदस्यों को चुनने के बाद नौ वोट अतिरिक्त हैं। सांसद राजीव शुक्ला का कार्यकाल भी खत्म हो रहा है। वह महाराष्ट्र से चुनकर आए थे लेकिन इस बार वहां से स्थानीय नेता को भेजने की मांग उठ रही है।

ऐसे में राजीव को पश्चिम बंगाल के रास्ते राज्यसभा भेजा जा सकता है। इसके लिए तृणमूल और वामदल का साथ भी लिया जा सकता है। 

कांग्रेस अपने 27 विधायकों और राजद के अतिरिक्त सात विधायकों के दम पर एक सीट बिहार से भी लाना चाहती है। जीतनराम मांझी के आने से भी महागठबंधन को मजबूती जरूर मिली है। लेकिन कांग्रेस अपने चार विधायकों को लेकर चिंतित है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी के साथ पार्टी के चार एमएलसी के चले जाने के बाद कुछ अन्य विधायक भी बगावत कर सकते हैं। ऐसे में कांग्रेस वहां पार्टी से इतर ऐसे व्यक्ति को उम्मीदवार बनाना चाहती है जो अपने प्रयास से जीतकर आ सके।
विज्ञापन

Recommended

Spotlight

Most Read

Related Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।