शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

एलिवेटेड रेल ट्रैक के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन की शिफ्टिंग के बाद हो सकेगा ट्रायल

रोहतक ब्यूरो Updated Fri, 11 Sep 2020 12:00 AM IST
विज्ञापन
एलीवेटेड रेलवे ट्रैक के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन, जिनको जल्द किया जाएगा शिफ्ट। - फोटो : RohtakCity

विज्ञापन मुक्त विशिष्ट अनुभव के लिए अमर उजाला प्लस के सदस्य बनें

Subscribe Now
फोटो.... 10सीटीवाईपी01एनआरजे, 10सीटीवाईपी02एनआरजे, 10सीटीवाईपी03एनआरजे, 10सीटीवाईपी04एनआरजे, 10सीटीवाईपी05एनआरजे
विज्ञापन
एलिवेटेड रेल ट्रैक के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन की शिफ्टिंग के बाद हो सकेगा ट्रायल
-132केवी की लाइन शिफ्टिंग के लिए विशाल नगर के छह मकान किए जाएंगे ध्वस्त
- चिह्नित मकानों के मालिकों को मुआवजा देने की प्रक्रिया चल रही अंतिम चरण में
- रेलवे अफसर बोले, एक सप्ताह में ट्रेन चलाने लायक हो जाएगा ट्रैक मगर नहीं चलेगी ट्रेन
नीरज वर्मा
रोहतक। भले ही एलिवेटेड रेल ट्रैक एक सप्ताह में ट्रेन चलाने लायक हो जाएगा फिर भी तीन माह तक ट्रेन नहीं चल सकेंगी। ट्रायल भी तब होगा जब बिजली निगम के ट्रांसमिशन अधिकारी 132केवी लाइन की सप्लाई बंद करेंगे। हाईटेंशन लाइन की शिफ्टिंग के लिए विशाल नगर के छह मकानों को ध्वस्त किया जाएगा। इन मकान मालिकों को मुआवजा राशि देने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है।
गोहाना रेलवे लाइन पर 4.8 किलोमीटर लंबा एलिवेटेड रेलवे ट्रैक बनाने का काम अंतिम चरण में है। 250 मीटर लंबी पटरी से ट्रैक बिछाया जा चुका है। इंजीनियरों की टीमें तकनीकी रूप से ट्रैक की जांच कर रही है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार एक सप्ताह में ट्रैक तैयार हो जाएगा मगर ट्रेन नहीं चलेंगी। इसकी वजह ट्रैक के ऊपर से 132केवी की हाईटेंशन लाइन का गुजरना है। जब तक बिजली निगम की तरफ से बिजली सप्लाई बंद करने की स्वीकृति नहीं मिलेगी तब तक ट्रायल भी नहीं होगा। जब मैटेरियल ट्रेन आई थी, तब भी हाईटेंशन लाइन बंद कराई गई थी।
एलिवेटेड रेल ट्रैक के एक तरफ कबीर कॉलोनी और दूसरी तरफ विशाल नगर है, जिनके बीच में 132 केवी के टावर लगे हैं। अब यह लाइन एलिवेटेड ट्रैक के ऊपर से गुजर रही है। रेलवे ने हाईटेंशन लाइन शिफ्टिंग के लिए कहा तो ट्रांसमिशन विभाग ने असमर्थता जताई। समस्या का निदान करने के लिए टावर को ऊंचा लगाने का करीब सवा करोड़ रुपये का एस्टीमेट भेज दिया। करीब एक साल पहले रेलवे ने एस्टीमेट राशि भी जमा करा दी। अब जब ट्रैक तैयार हो गया है, तो ट्रांसमिशन विभाग लाइन शिफ्टिंग करने की तैयारी में जुट गया है। इसके चलते विशाल नगर के पांच मकान व एक भूखंड प्रशासन ने अधिगृहीत करना शुरू कर दिया है। अधिगृहीत पांच मकानों को जमींदोज किया जाएगा। इनके घर अधिगृहीत करके ध्वस्त किए जाएंगे उनमें प्रीति पत्नी कृष्ण, लिलि पत्नी सत्यप्रकाश, वेदपाल, नन्ही देवी व कपारिया हैं। इन लोगों को प्रशासन की तरफ से मुआवजा राशि देने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है।
..................
रेलवे ट्रैक के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन को ऊंचाई पर शिप्ट किया जाएगा। कम से कम 45 वर्गफुट चौड़ा टावर लगेगा, जिसकी जद में छह मकान आ रहे हैं, जिनको मुआवजा देने की प्रक्रिया अंतिम चरण में चल रही है। अधिगृहीत मकान ध्वस्त होने के बाद हाईटेंशन लाइन को ऊंचाई पर शिफ्ट करने का काम होगा। यह काम 20-25 दिन में पूरा कर लिया जाएगा।
राजेश्वर धामी एसई ट्रांसमिशन एचबीपीएनएल रोहतक सर्कल।
......................
भले ही एक सप्ताह में एलिवेटेड ट्रैक रेलगाड़ी चलाने लायक हो जाएगा, लेकिन बिजली निगम की झंडी मिलने पर ही ट्रायल हो सकेगा। ट्रैक के ऊपर से हाईटेंशन लाइन गुजर रही है और जब तक ट्रांसमिशन विभाग बिजली सप्लाई बंद नहीं करेगा तब तक ट्रैक पर ट्रेन का ट्रायल नहीं हो पाएगा। हाईटेंशन लाइन की शिफ्टिंग कब होगी यह तो बिजली निगम के अधिकारी ही बता सकते हैं।
-वैभव कुमार, एक्सईएन, रेलवे निर्माण इकाई।
एलीवेटेड रेलवे ट्रैक के नजदीक कबीर कालोनी के रिहायशी इलाके में लगा 132केवी हाईटेंशन लाइन का टावर, ज- फोटो : RohtakCity
हाईटेंशन लाइन के नीचे से गुजरती मेटेरियल ट्रेन, जिससे विगत दिनों 250 मीटर की पटरी लाई गईं थी। ट्रेन ?- फोटो : RohtakCity
विज्ञापन

Recommended

exclusive
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Recommended Videos

Most Read

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।