सीएम योगी आदित्यनाथ ने रखा प्रस्ताव, सर्वसम्मति से महंत बालक नाथ बने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

Home›   City & states›   सीएम योगी आदित्यनाथ ने रखा प्रस्ताव, सर्वसम्मति से महंत बालक नाथ बने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

Rohtak Bureau

अमर उजाला ब्यूरोरोहतक। बाबा मस्तनाथ मठ अस्थल बोहर में वीरवार को अखिल भारतीय भेख बारह पंथ योगी महासभा की आपात बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगी आदित्य नाथ ने की। महासभा की कार्यकारिणी की बैठक में योगी आदित्य नाथ ने अध्यक्ष रूप में दो प्रस्तावों को रखा। प्रथम ब्रह्मलीन महंत चांदनाथ को श्रद्धांजलि और दूसरा उनके स्थान पर उपाध्यक्ष पद के लिए महंत योगी बालक नाथ नाम का सुझाव भी दिया। कार्यकारिणी के सिद्धजनों ने अपने प्रतिनिधियों के द्वारा एक मत होकर योगी बालकनाथ को अखिल भारतीय भेख बारह पंथ योगी महासभा का उपाध्यक्ष स्वीकार किया और महासभा की ओर से योगी आदित्य नाथ को मुख्यमंत्री बनने के बाद इस प्रथम बैठक में विशेष स्मृति चिह्न देकर भी सम्मानित किया गया। नवनियुक्त उपाध्यक्ष महंत योगी बालकनाथ को भी स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर बाबा मोती नाथ, बाबा सूरज नाथ, बाबा चेताई नाथ, बाबा विलास नाथ, बाबा शेखर नाथ, बाबा जस नाथ, बाबा शेरनाथ, बाबा खड़ेसरी, बाबा कृष्णनाथ, बाबा ब्रह्मनाथ, बाबा योगेन्द्र नाथ, बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर मारकंडे आहूजा, उपकुलपति डाक्टर अंजू आहूजा, एल.पी.एस. बोसार्ड के राजेश जैन, डॉक्टर प्रदीप गर्ग, डॉक्टर अरविंद दहिया, डॉक्टर एसएल वर्मा, डॉक्टर आदित्य बतरा, डॉक्टर सुनील गुलाटी, डॉक्टर ध्रुव चौधरी, डॉक्टर सुनील मुंजाल, विपिन गुप्ता और समर्थ गुप्ता भी मौजूद रहे।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

Bigg Boss 11: विकास ने अर्शी के साथ मिलकर रची साजिश, मास्टर माइंड के प्लान से नॉमिनेट हुए ये सदस्य

मुंबई में नए घर में शिफ्ट होंगे विराट-अनुष्का, शादी के बाद इनकी कमाई 600 करोड़ रुपये के पार

बचपन से एक दूसरे को जानते हैं विराट-अनुष्का, ऐसे हुई थी इनकी पहली मुलाकात

Bigg Boss 11: आज अर्शी करेंगी इन दो कंटेस्टेंट की किस्मत का फैसला, उल्टी पड़ जाएगी पूरी बाजी

शादीशुदा हीरो पर डोरे डाल रही थी ये एक्ट्रेस, पत्नी ने सेट पर सबके सामने मारा चांटा

गुस्साए सलमान ने सुशांत राजपूत को बुलाकर जमकर लताड़ा, कहा- सूरज से कायदे में रहना