शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

दिल्ली-एनसीआरः यमुना नदी में जल्द चलेंगी वाटर टैक्सी, केंद्र सरकार कर रही तैयारी

अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली Updated Thu, 27 Jun 2019 07:32 AM IST
वाटर टैक्सी - फोटो : अमर उजाला
सड़कों पर मोटर वाहनों की बढ़ती भीड़ के बीच शीघ्र ही लोगों को यमुना नदी में यात्रा करने का मौका मिल सकता है। केन्द्र सरकार फिलहाल दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में यमुना नदी में वाटर टैक्सी चलाने की तैैयारी कर रही है। उम्मीद की जा रही है कि शीघ्र ही यह सेवा शुरू हो जाएगी। 
विज्ञापन
केन्द्रीय नौवहन मंत्री मनसुख मंडाविया ने बुधवार को दिल्ली के सोनिया विहार में भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण -आईडब्ल्यूएआई- की बन रही वाटर टैक्सी परियोजना का जायजा लिया। 

इसके बाद उन्होंने बताया कि तैयारी जोरों पर चल रही है और शीघ्र ही यहां लोगों को वाटर टैक्सी सेवा की सुविधा मिलेगी। उनका कहना है कि इस सेवा के शुरू होने से न सिर्फ पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा बल्कि सड़कों पर बढ़ रहे ट्रैफिक की वजह से जल मार्ग के जरिये भी लोगों को यात्रा करने का मौका मिलेगा।

इस समय दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में 16 किलोमीटर के दायरे में पांच स्थानों पर टर्मिनल सुविधा विकसित की जा रही है। वहां फ्लोटिंग जेटी बनाये जा रहे हैं ताकि वहां वाटर टैक्सी को पार्क किया जा सके। 

इनमें वजीराबाद, सोनिया विहार, गाजियाबाद के ट्रोनिका सिटी, जगतपुर, और फतेहपुर जाट शामिल हैं। इसे दो चरणों में विकसित किया जा रहा है। पहले चरण में सोनिया विहार से ट्रोनिका सिटी जबकि दूसरे चरण में वजीराबाद से सोनिया विहार और ट्रोनिका सिटी से फतेहपुर जाट। 

मंडाविया का कहना है कि इस मार्ग पर जो वाटर टैक्सी चलाये जाएंगे वे इलेक्ट्रिक पावर्ड यानि बैटरी से चलने वाले भी हो सकते हैं। यह सफल नहीं हुआ तो डीजल से चलने वाले वाटर टैक्सी भी चलाये जा सकते हैं। इस बारे में कुछ और विकल्पों पर विचार हो रहा है।

उनका कहना है कि जो भी विकल्प चुना जाएगा, वह पर्यावरण के प्रति अनुकूल होगा। इस पोयिोजना पर पहले ही नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल से हरी झंडी ली जा चुकी है।

उल्लेखनीय है कि यमुना नदी में वाटर टैक्सी चलाने की परिकल्पना पूर्व नौवहन मंत्री नितिन गडकरी की थी। उन्होंने सोनिया विहार से फतेहपुर जाट और दिल्ली से आगरा तक वाटर टैक्सी चलाने के लिए काम शुरू किया था। लेकिन दिल्ली से आगरा तक नदी में पर्याप्त जल नहीं रहने की वजह से पहले वजीराबाद से फतेहपुर जाट की तरफ काम शुरू किया गया।

इस परियोजना का पर्यावरणीय और लागत-लाभ अध्ययन किया जा चुका है। पर्यावरणविदों ने कहा है कि इस सेवा के शुरू होने से पेय जल के खराब होने की आशंका नहीं है।
विज्ञापन

Recommended

water taxi delhi ncr environmental hazards

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।