शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

दिल्ली: सोशल मीडिया पर आईएएस टॉपर के बारे में की गईं अभद्र टिप्पणी, बोलीं- इसका गहरा असर पड़ता है

न्यूज डेस्क, अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली Updated Wed, 17 Jul 2019 06:33 AM IST
आईएएस टॉपर इरा सिंघल - फोटो : Social Media
वर्ष 2014 की आईएएस टॉपर और उत्तरी दिल्ली नगर निगम की उपायुक्त इरा सिंघल ने सोशल मीडिया पर पोस्ट से अपना दर्द साझा किया है। इरा का कहना है कि उन्हें विशेष वर्ग (दिव्यांग) से होने के कारण कुछ इस तरह संबोधित किया गया, जिससे वे खुद को बेहद आहत महसूस कर रही हैं। टॉपर ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा है कि एक फेसबुक पोस्ट में स्क्रीन शॉट्स भी उनके इंस्टाग्राम अकाउंट से डाले गए हैं। इसका हवाला देते हुए उन्होंने ट्रोल करने वालों पर अभद्र भाषा के इस्तेमाल के भी आरोप लगाए हैं।
विज्ञापन
इरा सिंघल ने कहा कि अगर कोई सोचता है कि किसी भी दिव्यांग से कुछ भी कह सकते हैं तो ऐसा नहीं है। इसका गहरा असर पड़ता है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए किसी के साथ ऐसा मजाक करने की कोशिश करना उचित नहीं है। उन्होंने पोस्ट का हवाला देते हुए कहा है कि यह शायद इसलिए किया गया कि इसे करने वाले की सिविल सेवा में आने की चाहत पूरी नहीं हो सकी। उन्होंने इस मामले में सवाल उठाते हुए कहा कि इसलिए स्कूलों में सभी वर्ग के लिए शिक्षा में बराबरी का दर्जा दिया जाना चाहिए, ताकि बच्चे किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ने के साथ ही एक बेहतर इंसान भी बनें।

इरा सिंघल फिलहाल उत्तरी निगम के केशवपुरम क्षेत्र में उपायुक्त हैं। सोशल मीडिया पर इरा ने अपनी पीड़ा बताई तो उनके समर्थन में उतरने वालों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है। उन्होंने इस मामले में समर्थन करने वालों को धन्यवाद दिया। इरा का समर्थन करने वाले कई लोगों ने इस तरह की पोस्ट करने वालों को सजा दिलवाने की बात कही। इरा ने कहा कि मेरा मानना है कि किसी को सजा मिलने से मानसिकता नहीं बदल सकती है। ऐसा करने से उनमें अचानक बदलाव संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि इसके लिए जरूरी है कि लोगों की मानसिकता में बदलाव आए और वे दिव्यांगों के साथ अपने बर्ताव को सामान्य रखें। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि इस पोस्ट में मेरे बारे में जो भी कहा गया है, वह गलत है। उन्होंने कहा कि यह गलत इसलिए लगता है, क्योंकि किसी को बगैर वजह अभद्र भाषा से प्रताड़ित किया गया है तो वह गलत है। ऐसा नहीं होना चाहिए। इसके लिए समझने की जरूरत है कि अंधा, बहरा, गूंगा होना कोई खराब बात नहीं है। साइबर माध्यम से किसी के साथ भी ऐसा बर्ताव किया जाना गलत है।
विज्ञापन
ias topper ira singhal social media

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।