शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

वीके सिंह को केंद्र में मिल सकती है अहम जिम्मेदारी

गाजियाबाद ब्यूरो Updated Sat, 25 May 2019 01:15 AM IST
वीके सिंह को केंद्र में मिल सकती है अहम जिम्मेदारी
विज्ञापन
गाजियाबाद। भारी मतों से रिकार्ड जीत दर्ज करने के बाद सांसद वीके सिंह को मोदी कैबिनेट में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जा सकती है। प्रदेश में पांच लाख 1500 मतों के साथ सबसे बड़ी जीत अपने नाम दर्ज करने के बाद जाहिर उनके राजनीतिक कद में बढ़ोतरी हो सकती है। राजनीतिक दिग्गज भी मानकर चल रहे हैं कि उनकी यह रिकार्ड जीत भविष्य में मिलने वाली बड़ी जिम्मेदारी में अहम भूमिका अदा कर सकती है। खासकर जब पश्चिमी में पार्टी के बाकी सांसद कोई बड़ी जीत दर्ज न कर पाए हो।
मोदी सरकार के बीते पांच वर्ष के कार्यकाल में जनरल वीके सिंह की छवि बेदाग रही है। उन्होंने कई अहम मोर्चों पर विदेशों में फंसे भारतीयों को निकलने में भी अहम भूमिका निभाई है। यही कारण रहा कि जब दूसरी बार टिकट तय किया जा रहा था तो स्थानीय स्तर पर बाहरी प्रत्याशी का मुद्दा उठाया जा रहा है। पार्टी के अंदर से ही कई स्थानीय नेता मुद्दे को हवा देने में लगे थे, लेकिन साफ छवि के साथ पीएम और सीएम से अच्छे संबंधों का नतीजा रहा कि उनके समाने टिकट की दौड़ में कोई नहीं टीक पाया। प्रत्याशी बनकर मैदान में उतरे तो उन्हीं के कुछ शुभचिंतक गठबंधन के आगे सीट खतरे में बताने लगे। यहां तक की सीएम की एक रैली में उम्मीद के अनुरूप भीड़ नहीं जुट पाई, जिसके बाद तमाम तरह की चर्चाएं शुरू हो गई, लेकिन उसके बाद वीके सिंह मैदान में अड़े रहे। एक दिन में 20 से 30 जगहों पर जनसंपर्क किया। पार्टी के साथ स्वयं अपने स्तर पर भी एक टीम मैदान में उतरे रखी। इसी की नतीजा रहा है कि भितरघात करने वाले भी जनरल की रणनीति के सामने फेल हो गए। अब उनकी जीत को भविष्य के लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है।

भितरघात करने वालों के पर काटने की तैयारी
चुनाव के वक्त पार्टी से जुड़े काफी लोग भितरघात करने में लगे रहे। कुछ लोग वीके सिंह के साथ दिखाई नहीं दिए तो कुछ साथ रहते हुए भी भितरघात कर रहे थे। मतदान के बाद ऐसा ही एक ऑडियो वायरल हुआ था, जिसमें वीके सिंह के विरोध में मतदान करने की बात कही गई थी। उस वक्त वीके सिंह का खेमा सब कुछ देखते हुए सारे मुद्दे पर शांत रहा लेकिन अब जीत के बाद पार्टी भविष्य को सुरक्षित करना चाहती है। ऐसे में जल्द ही स्थानीय स्तर पर कुछ उलटफेर भी हो सकता है।

एक टीम खड़ी रही वीके सिंह के पक्ष में
वीके सिंह की रिकार्ड मतों से जीते के पीछे उनकी टीम का बड़ा रोल माना जा रहा है जो पर्दे के पीछे काम करती रही। वीके सिंह के क्षेत्रवार प्रोग्राम तय कराने से लेकर भितरघात करने वालों की काट ढूंढने का काम भी टीम के कंधों पर रहा। टीम में पूर्व विधायक कृष्ण वीर सिरोही, मयंक गोयल, भाजपा महानगर उपाध्यक्ष अमित त्यागी व बॉबी त्यागी, हातम सिंह नागर, तरुण शर्मा, राजेंद्र त्यागी, सुनीता दयाल, संजीव शर्मा, पप्पू पहलवान, संदीप यादव व संजीव झा आदि शामिल रहे।
विज्ञापन

Recommended

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।