बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

शहर चुनें

Uttarakhand News : मोबाइल टावर पर चढ़े दो आंदोलनकारी, 27 घंटे बाद ग्रामीणों के अनुरोध पर उतरा गुड्डू लाल

न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, घाट Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal Updated Fri, 15 Jan 2021 03:36 PM IST
विज्ञापन
टावर पर चढ़ा आंदोलनकारी - फोटो : अमर उजाला
चमोली के घाट में नंदप्रयाग-घाट सड़क (19 किमी) को डेढ़ लेन बनाने की मांग को लेकर अनशन पर बैठे अनशनकारियों का स्वास्थ्य गिरने लगा है। गुरुवार को पुलिस अनशनकारियों को जबरन उठाने पहुंची तो आंदोलनकारियों की पुलिस से तीखी झड़प हो गई। इससे गुस्साए दो आंदोलनकारी मोबाइल टावर पर चढ़ गए। इसकी सूचना पर पुलिस मय फोर्स मौके पर पहुंची, लेकिन समझाने के बाद भी आंदोलनकारी देर शाम तक टावर से नहीं उतरे।
विज्ञापन


घाट में मोबाइल टावर पर चढ़ा अनशनकारी गुड्डू लाल अभी भी नहीं उतरा। करीब 27 घण्टे बाद ग्रामीणों के अनुरोध पर गुड्डू लाल टावर से उतरा। धरना-भूख हड़ताल जारी है। पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र भंडारी समर्थन में पहुंचे।


जबकि दूसरा आंदोलकारी मदन सिंह गुरुवार रात को उतर गया था। घाट में लोगों ने रातभर जागकर धरना दिया । पुलिस भी मौजूद रही । वहीं आज भी घाट बाजार बन्द है और टैक्सियों का भी चक्का जाम है। घाट पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला। पुलिस ने माइक से घोषणा की कि जो भी दुकान खोलना चाहता है, उसको पुलिस सुरक्षा देगी। जबरन दुकान बंद कराने पर कर्रवाई होगी। लेकिन कोई भी दुकान नहीं खुली। उधर प्रशासन आंदोलनकारियों को मनाने में जुटा है।

नंदप्रयाग-घाट सड़क डेढ़ लेन बनाने की मांग को लेकर व्यापार संघ और टैक्सी यूनियन के पदाधिकारियों के साथ बड़ी संख्या में समर्थक पांच दिसंबर से धरने पर बैठे हैं। मांग पर कार्रवाई न होने पर 10 जनवरी से उन्होंने आमरण अनशन शुरू कर दिया था और उनके स्वास्थ्य में गिरावट आने लगी थी। गुरुवार सुबह पुलिस और तहसीलदार धीरज राणा मौके पर पहुंचे और अनशनकारियों को जबरन उठाने का प्रयास किया, लेकिन भारी विरोध के चलते पुलिस को कदम पीछे खींचने पड़े।

जबरन आंदोलनकारियों को उठाए जाने के विरोध में सुबह करीब 11 बजे अनशनकारी गुड्डू लाल धरनास्थल से करीब तीन किमी आगे और आंदोलनकारी मदन सिंह धरना स्थल से कुछ दूर मोबाइल टावर पर चढ़ गए, जिसके बाद प्रशासन के हाथ पांव फूल गए। काफी प्रयास के बाद भी जब वह नहीं उतरे तो एडीएम अनिल चन्याल और सीओ कर्णप्रयाग विमल प्रसाद पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। काफी समझाने के बाद भी दोनों टावर से नहीं उतरे। मौके पर भारी पुलिस फोर्स और स्थानीय लोग मौजूद थे। एडीएम अनिल चन्याल ने बताया कि वह मौके पर ही हैं और आंदोलनकारियों के साथ वार्ता चल रही है। 

महिलाएं भी बैठीं धरने पर 

आंदोलनकारियों को समर्थन देने के लिए बृहस्पतिवार को बड़ी संख्या में महिलाएं भी धरने पर बैठ गईं। कलावती देवी, अनीता देवी, रमा भंडारी, रीना कठैत, ज्योति कनवासी, राजी नेगी, सरस्वती देवी, कविता रावत, पार्वती देवी, भदुली देवी, दमयंती देवी, मुन्नी देवी, बसंती देवी आदि ने धरना दिया।
विज्ञापन

Latest Video

Recommended

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।