शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बड़ी राहतः सरकारी भर्तियों में अब जरूरी नहीं मजिस्ट्रेट से बना शपथपत्र, ऐसे उठाएं पांच अंकों का लाभ

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़/रोहतक Updated Thu, 20 Jun 2019 01:21 AM IST
फाइल फोटो - फोटो : अमर उजाला
दो दिनों से हजारों युवाओं को तहसीलों के चक्कर कटवाने के बाद बुधवार को हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) ने राहत दी। अब सरकारी भर्तियों में पांच अंक पाने के लिए आयोग ने एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट से बने शपथ पत्र की शर्त खत्म कर दी है। आवेदकों को पहले की तरह केवल स्व-सत्यापित शपथ पत्र देना होगा कि उनके परिवार में से कोई भी सरकारी नौकरी में नहीं है। 

बता दें कि पुलिस, ग्राम सचिव और कैनाल पटवारी आदि के लिए सरकार ने 10 हजार पदों की भर्ती निकाली है। इन नौकरियों के लिए कर्मचारी चयन आयोग ने यह अनिवार्य कर दिया था कि उसी आवेदक को पांच अंक मिलेंगे जो मजिस्ट्रेट से परिवार में किसी के सरकारी नौकरी में नहीं होने का शपथ पत्र लाएगा। 

इस शर्त ने आवेदकों के लिए परेशानी खड़ी कर दी। आवेदन जमा करने की तिथि नजदीक आते ही लघु सचिवालयों और तहसीलों में शपथ पत्र बनवाने के लिए युवाओं की भीड़ उमड़ने लगी। नौबत हंगामे तक आ पहुंची। बुधवार शाम तक प्रदेश की तमाम तहसीलों और लघु सचिवालयों में आवेदन करने वाले युवा शपथ पत्र बनवाने के लिए धक्के खाते रहे। 
विज्ञापन

आयोग की घोषणा
हाल ही में निकली दस हजार भर्तियों के लिए अब मजिस्ट्रेट से प्रमाण पत्र बनाने के चक्कर में न फंसें। उम्मीदवार स्व-सत्यापित पत्र पहले की तरह दे सकता है। उसे पांच अंकों का लाभ मिल जाएगा। - हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग 

पांच अंकों के लिए करना पड़ा घंटों इंतजार और सही धक्कामुक्की 
सरकारी नौकरियों में पांच अंकों की छूट पाने के लिए आवेदकों को खूब पसीना बहाना पड़ा। दो दिनों से लघु सचिवालयों और तहसील कार्यालयों में युवाओं की भीड़ उमड़ रही थी। धक्कामुक्की के बीच कई जगहों पर युवा बिना टोकन लिए सरल केंद्रों के अंदर घुस गए। इस वजह से व्यवस्था बनाने में पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी। 

सौ रुपये तक में बिका दस रुपये का स्टांप पेपर
शपथपत्र बनवाने के लिए जहां युवाओं को घंटों लाइन में लगना पड़ा, वहीं उन्हें स्टांप पेपर से लेकर फोटो कॉपी कराने तक में अधिक पैसे देने पड़े। कई जगहों पर कागजात की एक फोटो कॉपी के दस-दस रुपये वसूले गए। दस रुपये का स्टांप पेपर 50-100 रुपये तक में बेचा गया। शपथपत्र बनवाने के नाम पर भी युवाओं से पैसे वसूले गए। तहसील परिसरों में न तो लड़कियों के लिए अलग से लाइन थी न ही किसी प्रकार की अन्य सुविधाएं। 

फर्जीवाड़ा भी हुआ
रोहतक में शपथपत्र बनवाने में फर्जीवाड़ा सामने आया। कुछ युवा दूसरे की जगह शपथ पत्र बनवाते पकड़े गए। जबकि एक युवक को तहसीलदार की फर्जी मुहर लगाते दबोचा गया, जिसे बाद में चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।
विज्ञापन

Recommended

haryana staff selection commission big relief applicants haryana

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।