शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

हरियाणा विस चुनावः फिर सूखी एसवाईएल में बहेगा ‘सियासत’ का पानी, पंजाब का पानी देने से इंकार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sun, 22 Sep 2019 10:44 AM IST
सूखी एसवाईएल - फोटो : फाइल फोटो
पंजाब में एसवाईएल की सूखी नहर हमेशा से बड़ा चुनावी मुद्दा बनती आई है। दोनों सूबों की राजनीति एसवाईएल के इस मुद्दे के ईद-गिर्द लगातर घूम रही है। इस बार चुनावी मौसम हरियाणा में है। चुनावी बिगुल बज चुका है और एक महीने बाद प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। सभी राजनीतिक दलों ने उन सियासी मुद्दों को तैयार कर लिया है, जिसके बूते वे चुनावी रण में उतरेंगे।

इन्हीं सियासी मुद्दों में सूखी एसवाईएल का मसला फिर से उठने वाला है। यानी सूखी एसवाईएल में एक बार फिर से अब ‘सियासत’ का पानी बहेगा। हरियाणा में अभी तक इनेलो एसावाईएल का मुद्दा जबरदस्त ढंग से उठाती आई है। इनेलो ने इसके लिए नवंबर 2016 से कथित ‘जलयुद्ध’ भी छेड़ा हुआ है। जिसके तहत कई बार इनेलो प्रदेश में बड़ा आंदोलन, प्रदर्शन और महापंचायतें कर चुकी है। इतना ही नहीं नवंबर 2016 में इनेलो ने एसवाईएल की नहर फिर से खोदने  के लिए पंजाब कूच किया था।

जिसके बाद इनेलो नेता अभय चौटाला समेत सवा सौ से अधिक नेताओं को पंजाब के शंभू बॉर्डर गिरफ्तार कर लिया गया था। उसके बाद से आज तक इनेलो इस मुद्दे पर सरकार को घेरे हुए हैं। विधानसभा में भी इनेलो एसवाईएल और दादूपुर नलवी नहर का मुद्दा जोरो-शोरों से उठा चुकी है। दूसरी ओर, कांग्रेस, जजपा समेत अन्य राजनीति दल ने भी इसी मसले पर सरकार को घेरने की रणनीति बनाते हुए निशाना साध रहे हैं।
विज्ञापन

उधर, हरियाणा सरकार को इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है। सीएम मनोहर लाल व उनकी मंत्री कह चुके हैं कि इस मामले को लेकर हरियाणा सरकार जितनी गंभीर है, उतना आज तक  कोई सियासी दल नहीं हुआ है। उनके अनुसार दस साल कांग्रेस सरकार रही और पांच साल इनेलो सरकार प्रदेश में रही, मगर किसी ने भी हरियाणा को उसकेहक का पानी दिलवाने की नहीं सोची। लेकिन यह भाजपा की सुप्रीम कोर्ट में प्रभावशाली पैरवी का ही नतीजा है कि फैसला हरियाणा के हक में तो आ चुका है, लेकिन इस मामले केपटाक्षेप की जिम्मेवारी केंद्र सरकार को सौंपी गई है।

गत दिवस उतरी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में यह मसला उठा था। मगर एजेंडे कई थे, इसलिए इस मसले पर कोई निर्णय नहीं हुआ। गृहमंत्री अब दिल्ली में केवल इसी एजेंडे को लेकर हरियाणा-पंजाब की बैठक बुलाएंगे और उसमें इस मामले का हल निकाला जाएगा। अन्य राजनीतिक पार्टियों को तो इस विषय में बोलने तक का हक नहीं होना चाहिए, क्योंकि जनता सब जानती है कि सही मायने में हरियाणा के लिए एसवाईएल केपानी की लड़ाई भाजपा ही लड़ रही है और भाजपा ही इसे सिरे भी चढ़ाएगी।
- मनोहर लाल, सीएम हरियाणा
विज्ञापन

Recommended

haryana assembly elections 2019 syl canal syl election elections

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।