शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

हरियाणा विधानसभा चुनाव में मुद्दे बनेंगे जीत का आधार, पहले ही घोषणा पत्र पेश कर चुके हैं दिग्गज

प्रवीण पाण्डेय, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sat, 21 Sep 2019 10:53 AM IST
हरियाणा के दिग्गज नेता - फोटो : फाइल फोटो
हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 में मुद्दे जीत का आधार बनेंगे और मुद्दों को लेकर कई दिग्गज पहले से ही अपना घोषणा पत्र पेश कर चुके हैं। सूबे में प्रधानमंत्री मोदी की रैली के बाद से ही राजनीतिक पारा चढ़ा हुआ है। ऐसे में सत्ता की पिच पर बैटिंग करने का सपना देख रहे नेताओं ने अपना दम-खम दिखाना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल जहां जन आशीर्वाद यात्रा के माध्यम से अपने किए कार्यों का बखान कर चुके हैं। वहीं पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा गोहाना रैली से अपना घोषणा पत्र जनता के सामने रख चुके हैं।

जेजेपी प्रमुख दुष्यंत चौटाला भी जींद के पांडु पिंडारा से अपना घोषणा पत्र जनता के सामने पेश कर चुके हैं। जबकि इनेलो की तरफ से की जाने वाली घोषणाओं का इंतजार है। पिछले दिनों सरकार की तरफ से निकाली गई जन आशीर्वाद यात्रा ने हरियाणा की सभी 90 विधानसभाओं का दौरा किया है। जिसमें जनता का समर्थन तो मिला है, लेकिन भाजपा को एक बार फिर से अपने किए गए कामों का बखान जनता के बीच करना पड़ा है। माना जाता है कि चुनाव से पहले सरकार को जनता के बीच जाकर यह बताना जरूरी होता है कि सरकार ने पिछले पांच साल में क्या काम किए।

सीएम मनोहर लाल शुरुआत से यह कहते भी आए हैं कि तीन साल तक हम योजनाओं पर काम करेंगे और चौथे साल में योजनाएं मूर्त रूप लेने लगेंगी। पांचवा साल आते-आते हम जनता के बीच अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर जाएंगे और दोबारा सरकार बनाने की बात कहेंगे। अपने तैयार किए गए रोडमैप पर भाजपा का रथ चल रहा है। मुद्दों को आधार बनाकर सीएम ने हरियाणा भर में चुनाव जितवाने की अपील की है। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा लोकसभा चुनाव के बाद से लगातार यह कह रहे हैं कि लोकसभा चुनाव में लहर थी।

यह चुनाव छद्म राष्ट्रवाद के आधार पर भाजपा ने जीत लिया, लेकिन विधानसभा चुनाव में मुद्दे अलग होंगे। भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में 154 वादे किए थे जो कि अभी तक पूरे नहीं हुए हैं। उनका कहना है कि हम जनता के बीच स्थानीय मुद्दों को लेकर चुनाव में कूदेंगे। अभी तक लोग 24 घंटे बिजली, रोजगार, स्वामीनाथन रिपोर्ट और किसानों की आय दोगुनी होने का इंतजार कर रहे हैं।
विज्ञापन

मनोहर लाल ने पढ़ाया पांच साल का पाठ

मुद्दों को लेकर चुनाव मैदान में कूदे सीएम मनोहर लाल जनता को 5 साल का पाठ पढ़ा रहे हैं। उन्होंने साफ कर दिया है कि न खाया है न ही खाने देंगे। बल्कि जो पिछला खाया हुआ बैठे हैं। वह भी निकाल लेंगे। वे जनता को यह बता रहे हैं कि ग्रुप डी की भर्ती पारदर्शी ढंग से हुई। इसमें पर्ची-खर्ची का प्रयोग नहीं हुआ। उनका कहना है सीएमओ तक जाने वाली सीएलयू की फाइल अब बंद हो चुकी है। हरियाणा में ट्रांसफर के नाम पर सचिवालय में सक्रिय रहने वाले बिचौलियों का भी आना बंद हो गया है। अब सरकार अगली पंच वर्षीय योजना लागू करने की ओर अग्रसर है।

कांग्रेस ने रोहतक से ही कर दिया मुददों का आगाज
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने गोहाना रैली में घोषणाओं की झड़ी लगा दी। जनता के सामने लुभावने वादे कर हुड्डा ने यह साफ कर दिया कि कांग्रेस सत्ता में आई तो जनता की पौ बारह होगी। अपना पिछला कार्यकाल याद दिलवाते हुए हुड्डा ने यहां से चार डिप्टी सीएम बनाने तक की घोषणा कर डाली। किसानों लोन माफ करना किसानों का, बिजली फ्री, महिलाओं के लिए रोडवेज में सफर फ्री, बीपीएल महिलाओं को सीधे 2000 खाते में, बीपीएल दो रुपये में दाल चावल, 75 फीसदी नौकरियों पर हरियाणवियों का अधिकार, हर घर में एक आदमी को सरकारी नौकरी

दुष्यंत ने 2018 में ही दिखा दिए थे सपने
हरियाणा जेजेपी के प्रमुख दुष्यंत चौटाला ने 2018 में नई पार्टी बनाते ही जनता को जनसेवा के वादे कर दिए थे। ताऊ देवीलाल द्वारा लागू किए गए बुढ़ापा पेंशन के फैसले को आगे बढ़ाते हुए दुष्यंत ने भी इसमें इजाफे का ऐलान करते हुए एचटेट की परीक्षा हटाने का ऐलान कर दिया था। वह बात अलग है कि भाजपा की वर्तमान सरकार ने एचटेट परीक्षा की अवधि चुनाव आने से पहले ही बढ़ा दी है। इसके अलावा दुष्यंत ने कई अन्य लोक लुभावनी घोषणाओं का जनता के सामने वादा किया था। जिसे देख कर जनता भी उत्साहित थी। अब आने वाले समय में चुनाव नतीजे देख कर ही यह कह पाना संभव होगा कि किसकी घोषणाएं हरियाणा की जनता को रास आईं।

यह रहेंगे मुद्दे

भाजपा भ्रष्टाचार मुक्त पारदर्शी शासन का मुद्दा लेकर मैदान में आएगी
कांग्रेस अपने घोषणापत्र में रोहतक रैली में कही गई बातों के अलावा अन्य वादे शामिल करेगी
जेजेपी भी जींद रैली के वादों के साथ चुनाव मैदान में उतरेगी
इनेलो ताऊ देवीलाल की विरासत को आगे बढ़ाते हुए मैदान में उतरेगी

राष्ट्रवाद और 370 भी रहेगा बड़ा मुद्दा
हरियाणा में चुनाव भले की स्थानीय मुद्दों पर हो, लेकिन इस चुनाव में अनुच्छेद 370 और राष्ट्रवाद भी एक प्रभावी मुद्दा रहेगा। भाजपा इस मुद्दे को भी चुनाव में भुनाने का प्रयास करेगी। ऐसे में मंदी और मोटर व्हीकल एक्ट का राग अलाप रहा विपक्ष इन दोनों मुद्दों का कितना लाभ ले पाएगा यह कहना मुश्किल होगा। बहरहाल सरकार ने 23 सितंबर को हरियाणा वीर एवं शहीदी दिवस के रूप में मनाने का ऐलान कर दिया है। इस दिन सभी स्थानों पर कार्यक्रम और गोष्ठियां होंगी।
विज्ञापन

Recommended

haryana assembly elections 2019 public issues election elections

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।