शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

जेपी ग्रुप के निदेशकों पर SC की गाज, संपत्ति का ब्योरा देने के साथ ही दिया पेश होने का निर्देश

amarujala.com- Presented By: अनंत पालीवाल Updated Tue, 14 Nov 2017 09:36 AM IST
supreme court
सुप्रीम कोर्ट ने जेपी एसोसिएट लिमिटेड के सभी गैर संस्थागत निदेशकों को 22 नवंबर को अदालत में खुद पेश होने का निर्देश दिया है। साथ ही इन्हें अपनी निजी संपत्तियों का ब्योरा देने के लिए भी कहा है।चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने जेपी एसोसिएट के अब तक 2000 करोड़ रुपये जमा नहीं कराने पर गैर संस्थागत निदेशकों को अदालत में पेश होने को कहा है। कोर्ट ने जेपी एसोसिएट को 27 अक्तूबर तक 2000 करोड़ रुपये जमा करने का निर्देश दिया था।


पढ़ें- हमें जेपी ग्रुप से घर खरीदने वालों की चिंता, कंपनी बंगाल की खाड़ी में डूबती है तो डूबे- SC

सोमवार को सुनवाई के दौरान कंपनी की ओर से पेश वकील ने कहा कि वह 700 करोड़ रुपये जमा करने के लिए तैयार हैं और मंगलवार को 100 करोड़ रुपये जमा करवा देंगे। जेपी ने कहा कि 593 करोड़ रुपये आईसीआईसीआई बैंक में जमा है, लेकिन अदालत ने उनकी दलीलों को खारिज कर दिया।

4 नवंबर की सुनवाई में पीठ ने कंपनी से कहा था कि जो भी संभव हो, आप उतनी रकम का इंतजाम कीजिए, लेकिन इसमें आपकी मंशा दिखनी चाहिए। पीठ ने जेपी एसोसिएट को 13 नवंबर तक कम से कम 1000 करोड़ रुपये जमा कराने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट ने जेपी एसोसिएट और जेपी इंफ्राटेक के तमाम निदेशकों और प्रबंध निदेशकों को पहले ही बिना इजाजत विदेश जाने पर रोक लगा रखी है।
विज्ञापन

jaypee greens - फोटो : social media
32000 खरीदारों के हितों की रक्षा के लिए रिकॉर्ड जमा करवाए कंपनी
शीर्ष अदालत ने जेपी इंफ्राटेक को अपने रिकॉर्ड इंटरिम रिजोल्यूशन प्रोफेशनल (आईआरपी) को सौंपने को कहा है, ताकि 32000 फ्लैट खरीदारों और निवेशकों के हितों की रक्षा हो सके। अदालत ने कंपनी के खिलाफ किसी भी उद्देश्य के लिए किसी भी फोरम जैसे उपभोक्ता फोरम आदि पर होने वाली सुनवाई पर रोक लगा दी है।

आईआरपी को कंपनी के प्रबंधन का पूरा जिम्मा सौंपा गया है। कोर्ट ने वरिष्ठ वकील शेखर नफाड़े को आईआरपी की सुनवाई के लिए अमाइकस क्यूरी बनाया गया है। शेखर खरीदारों के हितों की रक्षा के लिए एक प्रस्ताव तैयार करेंगे।

जेपी एसोसिएट व जेएसडब्लू अधूरे प्रोजेक्ट पूरा करने को तैयार
कर्ज में डूबे जेपी एसोसिएट ने कहा है कि वह जेएसडब्लू की मदद से जेपी इंफ्राटेक के अधूरे प्रोजेक्ट पूरा करने को तैयार है। जेपी समूह की कंपनी जयप्रकाश एसोसिएट लि. (जेएएल) ने यह भी कहा है कि जेपी इंफ्राटेक लि. (जेआईएल) के पास देनदारी से ज्यादा संपत्ति है, इसलिए उसे इस समस्या के हल में कोई दिक्कत नहीं होगी।

बांबे स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में जेएएल ने कहा कि नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्युनल, इलाहाबाद द्वारा नियुक्त आईआरपी के जारी जेआईएल संकट के हल के लिए आगे आने के प्रस्ताव के पक्ष में वेदांता सहित कई कंपनियों ने रुचि दिखाई है। अत: उसे अपने समूह की कंपनी को समस्या से उबारने में कोई दिक्कत नहीं आएगी।
विज्ञापन

Recommended

supreme court jaypee group directors property irp jsw सुप्रीम कोर्ट जेपी ग्रुप निदेशक प्रॉपर्टी आईआरपी जेएसडब्लू

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।