शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

अनिल अंबानी की कंपनियों ने किया 5500 करोड़ का हेर-फेर, एसबीआई ने शुरू की जांच

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 10 Jul 2019 08:39 PM IST
अनिल अंबानी के स्वामित्व वाली तीन कंपनियों पर 5500 करोड़ रुपये की गड़बड़ी करने का आरोप लगा है। इस मामलें की जांच भारतीय स्टेट बैंक ने शुरू कर दी है। 

इन तीन कंपनियों पर बैठी जांच

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार अनिल अंबानी की आरकॉम, रिलायंस टेलीकॉम और रिलायंस टेलीकॉम इंफ्रा के एक लाख से अधिक वित्तीय लेनदेन की जांच शुरू कर दी है। एसबीआई ने कहा कि मई 2017 में नेटीजन नाम की एक फर्म को चार हजार करोड़ रुपये दिए गए थे। 

कंपनी के कर्मचारी ही थे निदेशक

रिपोर्ट के मुताबिक जिन कंपनियों को रिलायंस ने पैसा दिया उनमें अनिल की कंपनियों के कर्मचारी ही निदेशक थे। रिपोर्ट के मुताबिक यह पता चला है कि बहुत से लेन-देनों का कोई औचित्य नहीं था। सिर्फ एडजस्टमेंट के लिए एंट्री कर दी गईं।

कंपनी ने किया इंकार

हालांकि रिलायंस समूह ने एसबीआई के सभी आरोपों को निराधार बताया है। कंपनी ने कहा कि जून 2017 से मार्च 2018 तक कंपनी के कर्ज की रिस्ट्रक्चरिंग की जा रही थी और सभी लेन-देन कर्जदाताओं की निगरानी में थे। इसलिए किसी प्रकार की वित्तीय घपले करने की बात करना बिलकुल सही नहीं है। 
विज्ञापन

Recommended

anil ambani sbi rcom reliance telecom adag अनिल अंबानी आरकॉम एसबीआई रिलायंस टेलीकॉम एडीएजी

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।