शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बदल रहे हैं साइबर ठगी के तरीके, बोनस-सिबिल के नाम पर खाली हो रहे खाते

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 10 Oct 2019 03:11 PM IST
1 of 4
साइबर क्राइम (सांकेतिक तस्वीर)
देश में तकनीक के बढ़ने के साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी भी तेजी से बढ़ रही है। हैकर्स आम लोगों को ठगने के लिए रोज नए-नए तरीकों का उपयोग कर रहे हैं। आए दिन साइबर क्राइम (Cyber Crime) की घटनाएं सामने आ रही हैं, जिनमें लोगों के खातों से लाखों रुपये उड़ा लिए जाते हैं। ऑनलाइन ठग इन दिनों बैंकों के नाम से फर्जी बोनस संदेश और सिबिल रिकॉर्ड अपडेट होने का एसएमएस उपभोक्ता को भेजते हैं और फिर उनके खाते में जमा रकम को उड़ा लेते हैं।

अनुराग सरबरिया नाम के एक पाठक ने अमर उजाला को बताया कि एक नामी सर्च इंजन कंपनी के नाम से उनके पास लगातार एसएमएस संदेश आ रहे हैं। इसमें उनसे मुफ्त सिबिल रिपोर्ट के लिए फॉर्म भरने का आग्रह किया गया था। ऐसे ही एक और संदेश में उनसे कहा गया कि उनका बैंक उन्हें बोनस दे रहा है।
विज्ञापन

2 of 4
देश के जाने-माने बैंकों के नाम से जालसाजों का गैंग उपभोक्ताओं को एसएमएस के जरिए लिंक भी भेजता है, जिसमें लिखा होता है कि गलत हस्ताक्षर की वजह से उनका बैंक खाता बंद कर दिया गया है। इसे फिर से खोलने के लिए ग्राहक को ऑनलाइन जानकारी भरनी होगी। 

ऐसे हो रही है लाखों की ठगी

अनुराग ने बताया कि लिंक को क्लिक करते ही एक फॉर्म खुलता है, जिसमें ग्राहकों को नाम, खाता नंबर, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर, जन्म तारीख सहित अन्य जरूरी जानकारी भरने को कहा जाता है। यह फॉर्म भरते ही ग्राहकों के खाते से सारे पैसे गायब हो जाते हैं और ग्राहकों को इसका एसएमएस भी नहीं आता है।

3 of 4

बोनस के नाम पर भी हो रहा फ्रॉड

इतना ही नहीं, साइबर शातिर एक अन्य तरीके से भी लोगों को ठग रहे हैं। ग्राहकों के पास मेल या एसएमएस आ रहे हैं, जिसमें लिखा होता है कि अच्छा सिबिल स्कोर होने पर बैंक ग्राहकों को बोनस दे रहे हैं। इसका फायदा उठाने के लिए ग्राहक एसएमएस में दिए गए लिंक में जानकारी भरते हैं, जिसके बाद उनका बैंक खाता खाली हो जाता है।

4 of 4

ग्राहकों को सतर्क रहने की जरूरत

विशेषज्ञों के अनुसार, ऐसे लिंक पर क्लिक करने से ठग आपके मोबाइल या कम्प्यूटर को स्कैन कर लेते हैं। जालसाज दुनिया के किसी भी हिस्से में बैठकर काम कर रहा होता है। इसलिए ठगी का शिकार होने के बाद राशि का मिलना भी मुश्किल होता है। इतना ही नहीं, साइबर क्राइम का एक भी मामला अदालत तक भी नहीं पहुंचता है। इसलिए आपको इन सब तरीकों से बचने का प्रयास करना चाहिए औऱ बैंक में जाकर ही अपनी जानकारी दें। त्योहारों में ये मामले और भी सामने आते हैं। 

शिकार होने से ऐसे बचें

दरअसल, ठगी करने वालों ने बैंक से मिलते-जुलते नाम से एसएमएस सर्विस शुरू की है, जिससे कोई भी आसानी से धोखा खा जाता है। लेकिन सच्चाई ये है कि बैंक इस तरह के मेसेज नहीं भेजते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि बैंक ना तो ऑनलाइन फॉर्म भरवाता है और ना ही फोन पर बैंक खाते से जुड़ी दानकारी मांगता है। इसलिए बैंक खाते की जानकारी मेल, एसएमएस या फोन पर किसी के साथ साझा ना करें।
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।