शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

भारी एनपीए से पीएनबी को 9975 करोड़ का घाटा, ग्रॉस- नेट एनपीए में दिखा सुधार

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 29 May 2019 06:36 AM IST
घोटाले का शिकार बने सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे बड़े बैंक पीएनबी को वित्त वर्ष 2018-19 में 9,975 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। हालांकि, इस दौरान बैंक ने 12,995 करोड़ का परिचालन लाभ अर्जित किया, लेकिन भारी फंसे कर्ज (एनपीए) के कारण उसे 22,971 करोड़ की प्रोविजनिंग करनी पड़ी। 

पीएनबी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनील मेहता ने कहा, यही कारण रहा कि बैंक को कुल मिलाकर घाटा हुआ है। हालांकि, इस साल बेहतर प्रबंधन के जरिये घाटे को सीमित किया गया है। इससे एक साल पहले बैंक को 12,283 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। बैंक के अनुसार, आलोच्य अवधि में बैलेंस शीट में बड़ा सुधार आया है।

2018-19 में घरेलू कारोबार में 11.1 फीसदी, घरेलू अग्रिम कारोबार में 14.1 फीसदी, वैश्विक जमा में 5.3 फीसदी और चालू तथा बचत खाते जमा में 8.3 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। इस दौरान ब्याज आय में भी 6.9 फीसदी जबकि परिचालन लाभ में 26.2 फीसदी का इजाफा हुआ है। गौरतलब है कि एक साल पहले बड़े घोटाले की वजह से बैंक को 13,417 करोड़ रुपये की चपत लगी थी और उसका घाटा काफी बढ़ गया था।

 
विज्ञापन

चौथी तिमाही में पीएनबी को हुआ  4750 करोड़ रुपये का घाटा, सुधरा एनपीए

देश के प्रमुख सरकारी बैंकों में शुमार पंजाब नेशनल बैंक को पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में 4750 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। हालांकि इस दौरान उसके एनपीए में भी काफी सुधार देखने को मिला है। 

2018 में हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी द्वारा किए गए 11 हजार करोड़ रुपये से अधिक के घोटाले से बैंक को उबरने में अभी थोड़ा समय लगेगा। वहीं बैंक की प्रोविजनिंग 7611 करोड़ रुपये रही।

ग्रॉस, नेट एनपीए में दिखा सुधार

तिमाही आधार पर पीएनबी का ग्रॉस एनपीए में सुधार हुआ है जो पिछली तिमाही के 16.33 फीसदी के मुकाबले चौथी तिमाही में 15.5 फीसदी रहा। जबकि नेट एनपीए भी सुधरकर पिछली तिमाही के 8.22 फीसदी के मुकाबले 6.56 फीसदी रहा।

बैंक ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि तिमाही के दौरान उसकी सकल गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) घटकर 15.50 फीसदी पर आ गईं, जो मार्च, 2018 में 18.38 फीसदी थीं। इसी तरह बैंक का शुद्ध एनपीए 11.24 फीसदी से घटकर 6.56 फीसदी रह गया।

नियामक को दी गई सूचना में पीएनबी ने कहा कि बैंक ने मार्च 2018-19 के दौरान कुल आय 14,725.13 करोड़ रुपये रहा। पिछले साल समान अवधि में पीएनबी की कुल आय 12,945.68 करोड़ रुपये रही थी।  

इसी तरह, वित्त वर्ष 20181-19 के बैंक का कुल घाटा 9,570.11 करोड़ रुपये दर्ज किया गया जो पिछले वित्त वर्ष यानी 2017-18 की समान अवधि में यह घाटा 12,113.36 रुपये रहा था। पीएनबी ने कहा कि उसने 2018-19 की मार्च तिमाही के दौरान तरजीही आधार पर 80 करोड़ इक्विटी शेयर जारी किए जिस पर सरकार से 5,908 करोड़ रुपये का पूंजी निवेश मिला।

पीएनबी का प्रोविजन कवरेज रेश्यो पिछली तिमाही के 68.9 फीसदी से बढ़कर 74.5 फीसदी रहा। वहीं घरेलू नेट इंटरेस्ट मार्जिन पिछली तिमाही के 2.64 फीसदी के मुकाबले 2.45 फीसदी रहा।
विज्ञापन

Recommended

pnb q4 results npa bank share market bse पीएनबी चौथी तिमाही नतीजे एनपीए बैंक शेयर बाजार बीएसई

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।