विज्ञापन
विज्ञापन

जानें एलोवेरा की खेती का गणित, इस महीने लगाएं पौधे, कम लागत में साबित होगा मुनाफे का सौदा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हिसार (हरियाणा) Updated Sat, 13 Jul 2019 10:53 AM IST
एलोवेरा की खेती
एलोवेरा की खेती - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
हर्बल और कॉस्टमेटिक उत्पाद व दवा कंपनियों की बढ़ती मांग के साथ एलोवेरा की खेती का व्यावसायिक महत्व काफी बढ़ गया है। इस खेती का मुख्य लाभ यह है कि इसके लिए कम पानी और रखरखाव की जरूरत होती है।
विज्ञापन
उत्पादन की लागत कम है और एलोवेरा खेती में अधिक शुद्ध लाभ है। इसमें विटामिन और खनिजों के साथ एंटीबायोटिक और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो एलोवेरा को एक सुपरफूड बनाता है। एलोवेरा एक बहुत ही हार्डी पौधा है, जिसे सूखे क्षेत्र में भी उगाया जा सकता है।

हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के मुताबिक एलोवेरा गर्म मौसम की फसल है। इसकी खेती आमतौर पर शुष्क क्षेत्र में न्यूनतम वर्षा और गर्म आर्द्र क्षेत्र में सफलतापूर्वक की जाती है। यह पौधा अत्यधिक ठंड की स्थिति के प्रति बहुत संवेदनशील है। शुष्क क्षेत्र और कम पानी की ठहराव वाली मिट्टी के साथ भूमि का उपयुक्त चयन आवश्यक है। 

जमीन को जुताई कर तैयार करना चाहिए। मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने को अंतिम जुताई के दौरान लगभग 15 से 20 टन सड़े गोबर की खाद डालें। इसकी खेती रेतीली से लेकर दोमट मिट्टी तक विभिन्न प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है। हालांकि रेतीली मिट्टी इसके लिए सबसे अच्छी है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Agriculture

कृषि विशेषज्ञ बोले- मध्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों में करें मटर की बिजाई

बरसाती मटर को बीजने के लिए मध्य ऊंचाई वाले किसानों का इंतजार खत्म हो गया है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि यह मौसम मटर की बिजाई के लिए उत्तम है।

9 सितंबर 2019

विज्ञापन

एसडीएम की अफसरशाही देख केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भड़के, बीच सड़क पर ही लगा दी क्लास

रविवार को अपने संसदीय क्षेत्र बेगूसराय के दौरे पर पहुंचे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एसडीएम डॉक्टर निशांत की इसलिए क्लास लगा दी क्योंकि वो उन्हें देखकर भी अपनी गाड़ी से बाहर निकलकर नहीं आए थे।

22 सितंबर 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree