विज्ञापन
विज्ञापन

कृषि विशेषज्ञ बोले- मध्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों में करें मटर की बिजाई

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Mon, 09 Sep 2019 10:58 AM IST
फाइल फोटो
फाइल फोटो
ख़बर सुनें
बरसाती मटर को बीजने के लिए मध्य ऊंचाई वाले किसानों का इंतजार खत्म हो गया है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि यह मौसम मटर की बिजाई के लिए उत्तम है। भारी बरसात होने के कारण मिट्टी पूरी गीली हो गई थी और ऐसे में मटर की बिजाई करना नुकसानदायक हो सकता था।
विज्ञापन
ऐसे में किसानों ने अभी तक मटर की बिजाई नहीं की थी। वहीं इन दिनों मटर की बिजाई के लिए बहुत अच्छा मौसम है। इन दिनों मटर बीजने से कीटों से भी सुरक्षा मिलेगी। कृषि विभाग की मानें तो मटर की बीजाई के लिए मिट्टी की जांच करना अनिवार्य है।

किसानों को खेतों में कम से कम रसायनों का इस्तेमाल करना होगा। बरसात के बाद खेतों में अधिक नमी हो गई है और रसायनों के कारण नमी में कई बार के कीट पनपने का खतरा भी बना हुआ है।

ऐसे में किसानों को नेचुरल खेती करने से ही बरसाती मटर की अच्छी पैदावार मिल सकती है। इसके अलावा जिन क्षेत्रों में बरसात के कारण मटर की खेती नष्ट हो गई थी, वहां भी मटर की बिजाई कर सकते हैं।

राइजोबियम का करें इस्तेमाल 
मटर बीज को गुड़ के घोल में डुबोकर बिजाई करने को राइजोबियम नाम दिया गया है। कृषि विभाग की मानें तो यह प्रक्रिया मिट्टी और बीज के लिए फायदेमंद होती है। इस प्रक्रिया से किसानों को अधिक पैदावार मिल सकती है। यदि खेतों को गोबर की सही मात्रा न मिली हो तो राइजोबियम गोबर की कमी को भी दूर कर देता है। 

ऐसे करें मटर की खेती के लिए खेत तैयार 
बरसाती मटर की खेती तैयार करने वाले किसानों को पहले मिट्टी की जांच करवानी होती है। अगर मिट्टी में ट्राइकोडूर्मा की कमी पाई जाती है तो खेतों में गोबर के साथ ट्राइकोडर्मा को मिलाकर डालना होगा। अगर मिट्टी सही है तो अधिक और अच्छी फसल को पाने के लिए रसायन की कम इस्तेमाल करें। 

जिला कृषि अधिकारी मोहेंद्र सिंह भवानी का कहना है कि इन दिनों मटर की बिजाई के लिए सही समय है। राइजोबियम प्रक्रिया का इस्तेमाल करना किसानों के  लिए लाभकारी सिद्ध होगा।
विज्ञापन

Recommended

मोतियाबिंद क्या है, इसके कारण व उपचार
Eye7 (Advertorial)

मोतियाबिंद क्या है, इसके कारण व उपचार

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Agriculture

प्याज लगाने से पहले तीन-चार बार करें खेतों की जुताई

प्याज दैनिक भोजन में उपयोग की एक प्रमुख सब्जी है। इसका प्रयोग कई व्यंजन बनाने में होता है। इसके औषधीय गुणों के कारण यह पीलिया, कब्ज, बबासीर और यकृत संबंधी रोगों में बहुत लाभकारी पाया गया है।

1 दिसंबर 2019

विज्ञापन

EXCLUSIVE: 'जुमांजी द नेक्स्ट लेवल' का प्रियंका चोपड़ा कनेक्शन, ड्वेन जॉनसन, केविन हार्ट से मुलाकात

जंगल की खतरनाक और रोमांचक सैर कराने वाली सुपरहिट हॉलीवुड फ्रैंचाइजी जुमांजी की अगली कड़ी 'जुमांजी: द नेक्स्ट लेवल' दर्शकों को रोमांचित करने आ गई है।

11 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election