विज्ञापन
विज्ञापन

कैथलः एक गांव में 200 में से आधे से ज्यादा किसान करते हैं मधुमक्खी पालन और शहद की खेती

जितेंद्र कुमार, अमर उजाला, कैथल Updated Tue, 16 Jul 2019 03:15 PM IST
फाइल फोटो
फाइल फोटो
ख़बर सुनें
शहद उत्पादन और मधुमक्खी पालन के लिए कैथल के गांव गोहरां खेड़ी का नाम जिले या प्रदेश में ही नहीं, बल्कि देश भर और विदेशों में भी प्रसिद्ध है। करीब 200 किसानों में से आधे से भी ज्यादा शहद की खेती करते हैं। शहद उत्पादन की अधिकता के कारण भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद इस गांव को मधुग्राम का दर्जा दे चुकी है, जो अपने आप में गांव की एक बड़ी उपलब्धि है।
विज्ञापन
गांव के मधुमक्खी पालक किसान केवल कैथल जिले में ही नहीं, बल्कि आसपास के राज्यों में भी मधुमक्खी पालन करते हैं। किसान हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, पंजाब, उत्तराखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश सहित आसपास के कई राज्यों में मक्खियों का पालन करते हैं, ताकि गांव से शहर की सप्लाई ज्यों की त्यों बनी रहे।

किसान शहद उत्पादन को लेकर अलग-अलग समय पर विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित भी हो चुके हैं। इसमें करीब 342 हेक्टेयर भूमि पर गेहूं और धान की खेती की जाती है। इसके बीच भी किसान खाली जगहों पर मधुमक्खियों के बॉक्स रख देते हैं, ताकि साथ में उगी फूलदार फसलों से मक्खियों को भरण-पोषण के लिए पर्याप्त खाना मिलता रहे।

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

शहद के व्यवसाय से जुड़ने से गांव में बेरोजगारों की संख्या न के बराबर

विज्ञापन

Recommended

फैशन इंडस्ट्री दे रही है खास मौके, इन्वर्टिस संग करें खुद को तैयार
Invertis university

फैशन इंडस्ट्री दे रही है खास मौके, इन्वर्टिस संग करें खुद को तैयार

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019
Astrology Services

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Agriculture

फतेहाबादः किसान नरेंद्र करते हैं सरंक्षित खेती, आधा एकड़ में बेमौसमी सब्जियां उगाकर कमाए 7 लाख

फतेहाबाद के गांव धारनिया के प्रगतिशील किसान नरेन्द्र पाली हाउस में बेमौसमी सब्जियां उगाकर संरक्षण खेती कर रहे हैं।

14 अगस्त 2019

विज्ञापन

उत्तराखंड में बारिश का कहर, नदिया बनीं सैलाब, हर तरफ तबाही का मंजर

बारिश से उत्तराखंड में तबाही का आलम है। बारिश की वजह से सड़कें टूट चुकी हैं। पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। कई पहाड़ दरक गए हैं। मकान के अंदर घुसकर पानी ने तबाही मचाई है।

18 अगस्त 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree