विज्ञापन

पूर्व बीएसए पर अब लोकायुक्त का फंदा

Rampur Updated Fri, 12 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
रामपुर। पूर्व बीएसए नरेंद्र पाल सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। इस दफा वह लोकायुक्त के फंदे में फंस गए हैं। लोकायुक्त ने कार्यकाल के दौरान किए गए प्रमोशन, समायोजन व तबादलों की जांच बैठाई है। जांच का जिम्मा मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक को सौंपा गया है। जांच शुरू होने के बाद विभाग में खलबली मच गई है।
विज्ञापन
बसपा के शासनकाल में ं बीएसए रहे नरेंद्र पाल सिंह ने कई ऐसे विवादास्पद फैसले लिए जो अब तक परेशानी का सबब बने हुए हैं। सत्ता परिवर्तन केबाद नरेंद्र पाल सिंह की मुश्किलें बढ़नी शुरू हुईं। प्रमोशन में जमकर धांधली हुई,जिसके बाद वह नगर विकास मंत्री आजम खां के निशाने पर आ गए थे। बाद में प्रमोशन में घपले की गाज नरेंद्र पाल सिंह पर गिर गई और उन्हें शासन ने सस्पेंड कर दिया। इसके बाद प्रमोशन भी निरस्त कर दिए गए। इस प्रकरण की जांच भी शासन स्तर पर कराई जा रही है। इस बीच बिलासपुर के अधिवक्ता अमित अग्रवाल की शिकायत पर लोकायुक्त ने शिकंजा कस दिया है। अधिवक्ता की शिकायत केआधार पर लोकायुक्त ने मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक को जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है। संयुक्त शिक्षा निदेशक ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है। बेसिक शिक्षा विभाग से विभिन्न बिंदुओं पर रिपोर्ट भी तलब की गई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us