'My Result Plus
'My Result Plus 'My Result Plus

लेखपाल-वकीलों ने रखी हड़ताल

Rampur Updated Fri, 12 Oct 2012 12:00 PM IST
बिलासपुर/स्वार। उप्र लेखपाल संघ ने नायब तहसीलदार और लेखपाल के खिलाफ दर्ज मुकदमा निरस्त कराने की मांग को लेकर हड़ताल रखी। विरोध स्वरूप एसपी के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। उधर, वकीलों ने भी हड़ताल रखी।
गुरुवार की सुबह संघ के बैनर तले जिले भर के तमाम लेखपाल तहसील परिसर में एकत्र हुए। उन्होंने नायब तहसीलदार ताहिर हुसैन और लेखपाल नसीर अहमद के खिलाफ दर्ज मुकदमे को गलत बताते हुए एसपी और कोतवाल के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। साथ ही मुकदमा निरस्त कराने की मांग की। बाद में एसडीएम मदन सिंह गर्ब्याल, सीओ जोगिंद्र लाल धरना स्थल पहुंचे। लेखपालों ने एसडीएम को चार सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। इस दौरान अध्यक्ष यशपाल चौधरी, सचिव नसीर अहमद, महीपाल सिंह, ब्रजेश शर्मा, ओमप्रकाश आर्य, विवेक राणा, जमीर अहमद, राजीव सक्सेना, हरिओम गुप्ता आदि थे। उधर, लायर्स एसोसिएशन ने भी विरोध स्वरूप हड़ताल रखी और मामले की निंदा की। वहीं स्वार में
बार वेलफेयर एसोसिएशन और उत्तर प्रदेश राजस्व संग्रह अमीन संघ ने एसपी के खिलाफ नारेबाजी की। वकीलों ने एक दिन के कार्य से विरत रहने की घोषणा की। प्रदर्शन करने वालाें में बार वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष एम जहूर खां, ताहिर हसन खां, कैलाश सक्सेना, खुर्शीद अहमद, इरशाद अहमद, राशिद खां, राजेंद्र नाथ गोस्वामी , पंकज जोशी, जावेद अख्तर आदि थे। जबकि उत्तर प्रदेश राजस्व संग्रह अमीन संघ ने भी नारेबाजी कर ज्ञापन सौंपा। प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपने वालों में जहीन आलम खां, रियाज अहमद, जसवंत सिंह, कल्लू सिंह, मनोज, कर्मसिंह, राहत अली, चरन सिंह, मनोहरलाल आदि संग्रह अमीन मौजूद थे।

Spotlight

Related Videos

वीडियो : पाकिस्तान सरहद पार से भेज रहा ‘अदृश्य घुसपैठिये’

पाकिस्तान ने भारत में घुसपैठ करने का नया तरीका खोज निकाला है। पाकिस्तान घुसपैठियों को ऐसे थर्मल सूट मुहैया करवा रहा है जिसे थर्मल स्कैन पकड़ नहीं पाएं। दूसरे शब्दों में कहें तो पाकिस्तान घुसपैठ के लिए ‘अदृश्य’ घुसपैठियों की फौज भेज रहा है।

26 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen