विज्ञापन

असम हिंसा को लेकर उलमा ने निकाला शांति मार्च

Rampur Updated Sun, 26 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
टांडा। जमीयत उलमा-ए हिंंद-से जुड़े उलमा ने नगर के सदर बाजार में शांति मार्च निकाल कर प्रधानमंत्री को संबोधित मांग पत्र तहसीलदार को सौंपा। इसमें अकलियत के महफूज और मुस्तकिल इंतिजाम करने और फिरकापरस्तों का असलह जब्त करने की मांग की है। उलमा ने मुख्यमंत्री पर अविश्वास प्रकट किया है।
विज्ञापन
असम में हजारों लोगों के बेघर होकर शिविर में रहने और पर्याप्त मदद नहीं मिलने पर तथा तरुण गोगोई सरकार असम में अकलियत की हिफाजत में असफल रहने पर उलमा में गुस्सा है। जुमे की नमाज के बाद अमन की दुआ की गई। शिविरों में बेसहारा लोगों की मदद के लिए चंदा एकत्र किया गया। जमीयत के अध्यक्ष हाफिज मुहम्मद जमील के नेतृत्व में उलमा ने सदर बाजार में शांति मार्च निकाला। शांति मार्च जामा मसजिद से शुरू होकर सदर बाजार, मिर्च मंडी, सर्राफा बाजार, मुख्य चौराहा होकर तहसील पहुंचा। जमीयत की ओर से प्रधानमंत्री को संबोधित मांग पत्र तहसीलदार प्रभु दयाल को सौंपा। मांग पत्र में असम को बरबाद करने वालों के खिलाफ कड़ाई करने, उपद्रवियों के हथियार जब्त करने, शिविरों में रह रहे परिवारों को पर्याप्त खाने पीने और इलाज का बंदोबस्त करने पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने और मुख्यमंत्री से फसाद काबू में नहीं करने पर जवाब तलब करने की मांग की गई है। पत्र में बर्मा में कत्लेआम रोकने को प्रधानमंत्री से प्रभाव का प्रयोग करने की मांग की। नायब सदर मौलाना लियाकत अली, महासचिव मौलाना मोहम्मद इरफान, डाक्टर मोहम्मद आरिफ, मौलाना मोहम्मद सलीम नाजिम मदरसा रोजातुल उलूम, मौलाना जहीरुल इस्लाम, कारी अब्दुल रशीद, कारी मोहम्मद मारूफ, मौलाना मोहम्मद फहीम, कारी मोहम्मद फुरकान, मौलाना मोहम्मद अकरम, कारी मोहम्मद अजीम, हाफिज मोहम्मद असलम, मौलाना मोहम्मद सगीर, मौलाना मोहम्मद फाहिम, मौलाना हुसैन अहमद, मौलाना मोहम्मद उसमान मिफ्ताही, मौलाना अब्दुल मन्नान, मौलाना शौकत अली मौजूद थे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

‘सर्जिकल स्ट्राइक’ पर राजनीति इन खबरों पर रहेगी नजर

‘सर्जिकल स्ट्राइक डे’ मनाने पर राजनीति शुरू, थम नहीं रहा राफेल डील विवाद और मुश्किल में शिवराज सिंह चौहान समेत इन बड़ी खबरों पर रहेगी नजर।

21 सितंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree