रुख्सत हुआ माहे मुबारक

Rampur Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

रामपुर। जुमा अलविदा को नमाजियों की भीड़ उमड़ पड़ी। नमाजियों की तादाद के सामने मसजिदें छोटी पड़ गईं। अंदर जगह नहीं रही तो बाहर सफबंदी की गई। उलमा ने तकरीर में जकात की फजीलत बयान की।
विज्ञापन

जुमा अलविदा की तैयारियां छोटी ईद जैसी की गईं थीं। वक्त से पहले नमाजियों ने मसजिद की ओर रुख कर लिया। जामा मसजिद भी वक्त से पहले नमाजियों से खचाखच भर गई। नमाजियों की तादाद के सामने जामा मसजिद भी छोटी पड़ गई तो सड़कों, छतों, मैदान और दुकानों तक में सफबंदी की गई। शहर काजी सैयद खुशनूद मियां ने जामा मसजिद में नमाज अदा कराई। उन्होंने जकात की फजीलत बयान की। उन्होंने कहा कि रोजा, नमाज और तिलावत जान की हिफाजत है। अल्लाह ने माल की हिफाजत भी फरमाई है। जकात से माल की हिफाजत होती है। उन्होंने कहा कि किसी को किसी का हक नहीं मारना चाहिए। शहर काजी ने खुदा के बताए रास्ते पर चलने की नसीहत भी दी। बाद में अमनो-अमान और कौम की तरक्की की दुआ कराई। जुमा अलविदा पर तमाम लोगों ने अपने बच्चों का पहला रोजा रखवाया। अजीज दोस्तों को इकट्ठा कर रोजा इफ्तार कराया।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us