विज्ञापन

संसद के मानसून सत्र में पास हो दंगा विरोधी बिल : आजम

Rampur Updated Tue, 14 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
रामपुर। प्रदेश के नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां ने संसद के मौजूदा मानसून सत्र के दौरान दंगा विरोधी बिल पास किए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि यह बिल संसद में लंबित पड़ा हुआ है। इस बिल को पास कराने में कांग्रेस रुचि नहीं ले रही है। आजम खां ने अन्ना हजारे और योग गुरु रामदेव से भी आह्वान किया कि वे भी केंद्र सरकार पर इस बिल को पास कराने के लिए दबाव डालें।
विज्ञापन
रामपुर में अपने निवास स्थान पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान आजम खां ने कहा कि असम में हिंसा फैली हुई है। असम सरकार वहां आर्मी को नहीं आने दे रही है। बेगुनाह मुसलमानों का कत्ल हो रहा है। इस तरह का कत्लेआम रोकने के लिए दंगा विरोधी कानून का होना जरूरी है। दंगा विरोधी कानून के लिए तैयार किया गया बिल संसद में लंबित है। यूपीए सरकार इसमें रुचि नहीं दिखा रही है। इंसानियत के कत्लेआम को रोकने के लिए आवश्यक है कि इस बिल को पास कराया जाए।
आजम खां ने दिल्ली में योग गुरु बाबा रामदेव की गिरफ्तारी को गलत बताया। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में इस तरह की बात नहीं होनी चाहिए। रामदेव अपने समर्थकों के विरोध नहीं, योग कर रहे थे। उनको रामलीला मैदान में अनशन पर बैठने की इजाजत भी तो सरकार ने दी थी। अगर सरकार को लगता कि रामदेव से कानून व्यवस्था को खतरा है तो वह अपनी अनुमति वापस ले लेती। उनकी गिरफ्तारी गलत है।
कांग्रेस पर बरसते हुए आजम खां ने कहा कि इस पार्टी का रवैया हमेशा से मुसलिम विरोधी रहा है। कांग्रेस मुसलमानों को सरकारी नौकरी में आरक्षण नहीं देना चाहती है। कांग्रेस की साजिश है कि मुसलमान शिक्षा के मामले भी पिछड़े रहे। इसी साजिश के तहत जौहर यूनिवर्सिटी को अल्पसंख्यक संस्थान का दर्जा नहीं दिया जा रहा है। प्रदेश के राज्यपाल कांग्रेस के एजेंट की तरह काम कर रहे हैं। सपा द्वारा यूपीए सरकार और कांग्रेस का समर्थन किए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि आरएसएस और फासिस्ट ताकतों को सत्ता में आने से रोकने के लिए कांग्रेस का समर्थन करना पड़ जाता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Related Videos

11 दिसंबर से 8 जनवरी तक संसद का शीतकालीन सत्र, जानिए किन मुद्दों पर होगी चर्चा

संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसंबर से शुरू होकर आठ जनवरी तक चलेगा। इसकी जानकरी देते हुए संसदीय मामलों के राज्य मंत्री विजय गोयल ने बताया कि इस दौरान 20 कार्यदिवस मिलेंगे। इन बीस दिनों में सरकार कई महत्वपूर्ण बिलों पर चर्चा करेगी।

14 नवंबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree