रोजगार और ट्रेनिंग के नाम पर लाखों की ठगी

Rampur Updated Sat, 21 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

रामपुर। रोजगार और ट्रेनिंग कार्यक्रम चलाने के नाम पर लखनऊ के एक एनजीओ ने रामपुर की एक संस्था को चार लाख का चूना लगा दिया। लखनऊ की संस्था दफ्तर में ताला डालकर फरार हो गई है। इस मामले में अब संस्था के अध्यक्ष समेत पांच लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी।
विज्ञापन

केमरी थाना क्षेत्र के भंवरकी गांव निवासी हरिओम सुमन ने डीजीपी से लेकर कोर्ट तक प्रार्थना पत्र भेजकर गुहार लगाई है। उसने प्रार्थना पत्र में कहा है कि वह नीरजा ग्राम विकास संस्थान सोसाइटी संचालित किया जाता है। उसकी संस्था रजिस्टर्ड है। कुछ समय पहले लखनऊ में उसकी मुलाकात कमल नयन आचार्य शिक्षा निकेतन संस्थान के अध्यक्ष रामवृक्ष तिवारी औक डीपी श्रीवास्तव से हुई। इन लोगों ने शहरों में बाल शिक्षा, शिल्प कला, ब्यूटी पार्लर समेत कई कार्यक्रम चलाने के लिए बात की। दोनों के बीच समझौता हुआ और फिर उसने रामपुर में संस्था के कार्यक्रम चलाने के लिए 215 लोगों की सूची भेज दी। कार्यक्रम संचालित होने लगा। इसके बाद संस्था की ओर से रखे गए 215 कर्मियों का मानदेय नहीं दिया गया। साथ ही सिक्योरिटी मनी के रूप में एक लाख रुपये भी दिए गए। मानदेय न मिलने के बाद उसने लखनऊ दफ्तर पहुंचकर देखा तो पता लगा कि दफ्तर ही बंद पड़ा है। उसका आरोप है कि उक्त संस्था की ओर से उसे 4.30 लाख रुपये की ठगी की गई है। मामले की शिकायत डीजीपी से की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई,जिस पर उसने अब अपने अधिवक्ता के माध्यम से कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया। अधिवक्ता अमित कुमार केमुताबिक कोर्ट ने इस मामले में संस्था के रामवृक्ष तिवारी समेत पांच लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के आदेश दिए हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us