ईएफएमएस लागू करने को ट्रेंड होंगे अधिकारी

Rampur Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

रामपुर। मनरेगा के ई-मस्टरोल और इलेक्ट्रानिक फंड मेनैजमेंट सिस्टम(ईएफएमएस) में पारदर्शिता लाने के लिए अधिकारियों को ट्रेंड किया जाएगा। शासन स्तर से ट्रेनिंग का कार्यक्रम भी घोषित कर दिया गया है। मुरादाबाद में मंडल भर के अधिकारी प्रशिक्षण लेंगे।
विज्ञापन

कड़ी निगरानी के बाद मनरेगा में गड़बड़ी की शिकायत मिल रही हैं। बिना काम मजदूरों के नाम पर पैसा निकाल लिया जाता है। जांच में कई मामले पकड़े जा चुके हैं। मरनेगा में गड़बड़ी रोकने के लिए शासन ने मस्टरोल को आन लाइन करने का फैसला लिया है। साथ ही इलेक्ट्रानिक फंड मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया जाएगा। इसके तहत मस्टरोल आन लाइन होगा। मजदूर काम की डिमांड करेगा उसका नाम पहले मस्टरोल में दर्ज होगा। काम नहीं करने पर नाम मस्टरोल से डिलीट कर दिया जाएगा। पहले चरण में सिस्टम प्रैक्टिकल के तौर पर काम होगा। इसके बाद पूरी तरह लागू कर दिया जाएगा। शासन ने सिस्टम एक जुलाई से लागू करने के निर्देश दिए थे। सिस्टम शुरू नहीं हो सका है। सिस्टम में पारदर्शिता लाने को मनरेगा से जुड़े जिला और ब्लाक स्तरीय अधिकारियों को ट्रेंड किया जाएगा। इनमें मुख्य विकास अधिकारी भी शामिल होंगे। मंडलवार ट्रेनिंग का भी कार्यक्रम तय कर दिया गया है। मुरादाबाद में 24 जुलाई को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण में मंडल भर के अधिकारी शामिल होंगे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us