विज्ञापन

अग्निकांडों से भी सबक नहीं ले रहे अस्पताल

Rampur Updated Mon, 02 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
रामपुर। मुरादाबाद के निजी अस्पताल में दुर्घटना से रामपुर के नर्सिंग होम्स कोई सबक लेना नहीं चाहते। यही आलम रहा तो कहीं यहां भी कोई दर्दनाक हादसा न हो जाए। रामपुर में अधिकतर अस्पतालों में आग से निपटने के पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। यहां भर्ती मरीज जान जोखिम में डालकर वक्त गुजारता है।
विज्ञापन
मंडल मुख्यालय के विनायक आर्थोपेडिक सेंटर नाम निजी अस्पताल में शनिवार को भीषण आगजनी की घटना हो गई। घटना इस कदर घटी कि मरीज मां की देखभाल कर रहे दो भाई बहन भी मौत के आगोश में समा गए। सुनने वाले की आंखें नम हुईं, लेकिन नर्सिंग होम्स संचालक चेतते नहीं दिखे। रामपुर के निजी अस्पतालों में आग से निपटने के पुख्ता इंतजाम नहीं है। नर्सिंग होम्स को कई बार नोटिस जारी किया जा चुका है। फायर ब्रिगेड ने अस्पतालों को नोटिस जारी कर नियमों का पालन करने की चेतावनी दी थी। मात्र चेतावनी देकर विभाग खामोश हो गया। आलम यह है कि अभी तक किसी भी नर्सिंग होम्स में नियमों का पालन नहीं हो रहा है। सही मायने में मरीजों की जान जोखिम में डालकर इलाज किया जा रहा है। यह मनमानी तब है जब वर्ष 2005 में कानूनी तौर पर नियमों का पालन करना अनिवार्य घोषित हो चुका था। यह नियम कलकत्ता अस्पताल में अग्निकांड के चलते सख्त हुए थे। फायर ब्रिगेड के एसओ मतलूब की माने तो अब तक किसी भी नर्सिंग होम्स ने एनओसी नहीं ली है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us